रविवार, 13 अप्रैल 2014

लोकसभा चुनाव 2014 : भाग-8 : मायावती---अभी तो प्रधानमंत्री नहीं

जय श्री राम …………| आदरणीय मित्रो, प्रस्तुत है इस शृंखला का भाग-8| वैसे तो 21-22-23 दिसंबर, 2012 को जालंधर में ‘अखिल भारतीय सरस्वती ज्योतिष मंच’ की ओर से आयोजित अंतरराष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन में अपने व्याख्यान में यह कह चुके हैं| आज इसके भाग-8 में बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती का अंकीय विश्लेषण प्रस्तुत है| यह विश्लेषण दैनिक ‘पंजाब केसरी’ की वेबसाइट http://www.punjabkesri.in पर दिनांक 27 फरवरी, 2014 को प्रकाशित हो चुका है|
जन्म-दिनांक:-15-01-1956
मूलांक:-6          भाग्यांक:-1           आयु अंक:-5 (59 वाँ वर्ष)             नामांक:-1             जन्म का चलित अंक:-8 (-)              चलित दशा:-अंक 6 (वर्ष 2014 से वर्ष 2019 तक)

                लोकसभा चुनावों के सिलसिले में सब तरफ़ 'तीन देवियों' के चर्चे हैं| ये तीन देवियाँ हैं-पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे. जयललिता और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती| तीनों में दो प्रमुख समानताएँ यह हैं कि एक तो ये अपने-अपने दलों की प्रमुख हैं और वह भी ऐसे-वैसे वाले नहीं, बल्कि सर्वेसर्वा वाले रूप में; और दूसरी यह कि तीनों ही 'सुश्री' हैं| इनमें से पहली दो की चर्चा हम आगे के अंकों में करेंगे, आज हम चर्चा करते हैं बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती की|        
                मायावती का मूलांक 6 व चलित दशा का अंक 6 देश की स्वाधीनता के मूलांक के साथ प्रतिरूप युति बनाता है| यह शुभ है| यह अंक 6 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ विरोधी युति व देश के नामांक 3 के साथ प्रबल विरोधी युति बनाता है| अंक 4 व अंक 6 की युति पितृ अवस्था का सुख भंग करती है| अंक 3 व अंक 6 की युति सुखकारी निर्णय में बाधा डालती है| इन दोनों युतियों का तात्पर्य यह है कि लोकसभा चुनावों के बाद मायावती के पक्ष में किसी भी गठबंधन या मोर्चे की मुखिया बनाए जाने का निर्णय नहीं हो पाएगा| ये दोनों युतियाँ इनके प्रधानमंत्री पद पाने में सबसे बड़ी बाधक सिद्ध होंगी| इनका भाग्यांक 1 व नामांक 1 इनके अपने मूलांक 6 व चलित दशा के अंक 6 और देश के मूलांक 6 के साथ विरोधी युति बनाता है| अंक 1 नेतृत्व व नेता और अंक 6 सुख का है| यह विपरीत युति भी नेता के रूप में सुख-भोग नहीं करने नहीं देती है| यह नेतृत्व की अवस्था भंग कर देती है| इनका भाग्यांक 1 व नामांक 1 इनके जन्म के चलित अंक 8 व देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ पितृ द्रोह की अवस्था निर्मित कर रहा है| यह युति मुखिया के रूप में मायावती के लिए परेशानियों की ओर संकेत कर रही है| इसके कारण मायावती को अपनी पार्टी के मामलों में भी परेशानी पेश आ सकती है| इनका भाग्यांक 1 व नामांक 1 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ पितृ दोष व ग्रहण योग बना रहा है| ये दोनों ही मायावती के नेता या मुखिया रूप के लिए बहुत हानिकारक हैं| बोलचाल की भाषा में इसे 'नेतृत्व पर ग्रहण लगना' कहते हैं|  इस कारण इनके नेतृत्व या इनके फ़ैसलों पर सवाल खड़े किये जा सकते हैं| इतना ही नहीं, बल्कि इन्हें अपने नेतृत्व के सम्बन्ध में झटके झेलने पड़ सकते हैं| पार्टी के अंदर या बाहर इनके नेतृत्व को चुनौती दी जा सकती है| इनके काम या शैली को लेकर पार्टी में विद्रोह के सुर बुलंद हो सकते हैं| इनका कोई प्रमुख नेता पार्टी छोड़ कर भी जा सकता है|
                    मायवती का आयु अंक 5 इनके जन्म के चलित अंक 8 का विरोधी है| देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ भी यही समीकरण होने के कारण इस युति का परिमाण बढ़ जाता है| इनकी युति भ्रम की अवस्था बनाए रखती है| यह आयु अंक 5 देश के नामांक 3 के साथ विरोधी युति बनता है| यह युति निर्णयगत अस्थिरता उत्पन्न करती है| इसके कारण यह भ्रम बना रहता है कि अब सफल हुए कि तब सफल हुए; मगर सफल नहीं हो पाते हैं| इनकी चलित दशा और देश की स्वाधीनता की चलित दशा समान है|    इनके जन्म का चलित अंक 8 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ विखंडन युति बनाता है| यह इनके लिए मनोवांछा-पूर्ति यानि प्रधानमंत्री बनने के मार्ग में 'काँटे बिछाने वाली' है| देश का नामांक 3 इनके जन्म के चलित अंक 8 का मित्र है| अंक 3 निर्णय/चयन/चुनाव और अंक 8 लोकतंत्र का है| यह युति मायावती के लिए लाभकारी है| देश की स्वाधीनता का आयु अंक 4 इनके आयु अंक 5 के साथ प्रबल युति बनाता है| यह युति इनके लिए अत्यंत लाभकारी है| साथ ही चुनावी वर्षांक 7 इनके भाग्यांक 1 व नामांक 1 के साथ प्रबल मित्र युति बनाता है| यह युति दोहरे रूप में प्रभावी है| ये युतियाँ इन्हें इस बार अच्छा लाभ दे सकती हैं| अतः इन लोकसभा चुनावों में मायावती की सीटें बढ़ सकती हैं; किन्तु अनुकूल की तुलना में प्रतिकूल अंकीय समीकरणों की अधिकता के कारण ये अभी प्रधानमंत्री नहीं बन पाएँगी|  
                अब अगली बात करेंगे कल| तब तक के लिए आज्ञा दीजिए| ......... आज के आनंद की जय| ............ जय श्री राम|