सोमवार, 14 अप्रैल 2014

लोकसभा चुनाव 2014 : भाग-11---द्रविड़ मुनेत्र कझगम : हाल बहुत बुरा होगा

जय श्री राम …………| आदरणीय मित्रो, प्रस्तुत है इस शृंखला का भाग-11| इसमें द्रविड़ मुनेत्र कझगम का अंकीय विश्लेषण प्रस्तुत है|
स्थापना-दिनांक:-17-09-1949
मूलांक:-8           भाग्यांक:-4 (40)          आयु अंक:-2 (65 वाँ वर्ष)            नामांक:-3 (वृहदंक 75)          स्थापना का चलित अंक:-5 (-)                 चलित दशा:-अंक 4 (वर्ष 2012 से वर्ष 2015)

                अब बात करते हैं तमिलनाडू के दूसरे प्रमुख दल द्रविड़ मुनेत्र कझगम यानि द्रमुक की| पिछले विधानसभा चुनावों में द्रमुक का हाल बहुत बुरा हुआ था| वह सत्ता से सिर्फ़ बाहर ही नहीं हुई, बल्कि बहुत बुरी तरह बार हुई|  अब यह देखें कि इन लोकसभा चुनावों में द्रमुक का क्या हाल होने वाला है? द्रमुक का मूलांक 8 वृहदंक 17 से बना है| अंक 1 नेता/नेतृत्व व अंक 7 रक्त-सम्बन्ध/अंतरंगता का है| अंक 8 इसका विखंडन करता है| इस पार्टी पर यह पूर्ण प्रभावी है| इस पार्टी पर यह 'अंतरंग/निकट के लोगों में विखंडन' वाली बात बिलकुल सही ठहरती है| इस पार्टी के टूटने से ही इसकी प्रमुख प्रतिद्वंद्वी पार्टी अन्नाद्रमुक का जन्म हुआ था| और भी कुछ अवसरों पर यह पार्टी टूटी है|
                इस पार्टी का भाग्यांक 4 व चलित दशा का अंक 4 इसके मूलांक 8 व देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ विखंडन युति बनाता है| यह युति इस पार्टी के लिए अशुभ है| यह इसमें झगड़े-टंटे और टूट-विद्रोह करवाएगी| करूणानिधि द्वारा अपने बड़े बेटे अझागिरी को पार्टी से निलम्बित करने की हमारी भविष्यवाणी सही साबित हो चुकी है| ऐसे ही कुछ बातें और हो सकती हैं| यह भाग्यांक 4 व चलित दशा का अंक 4 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ प्रतिरूप युति बनाता है| अन्य अंकीय समीकरणों के प्रतिकूल होने के कारण यह युति इस पार्टी के नेतृत्व के लिए सुख भंगकारी सिद्ध हो सकती है| यह सुख भंगकारी युति एक और जगह भी बनती है| यह भाग्यांक 4 व चलित दशा का अंक 4 देश की स्वाधीनता के मूलांक 6 व देश की चलित दशा के अंक 6 के साथ इसी फलित रूप में बैठा है| यही अवस्था इस भाग्यांक 4 व चुनावी वर्षांक 7 की युति की है| यह प्रबल मित्र युति संगत अंकीय समीकरणों की विपरीतता के कारण हानिकारक बन गयी है| अंक 4 पितृ अवस्था व अंक 7 रक्त-सम्बन्ध का है| अतः इस पार्टी में पितृ अवस्था यानि नेतृत्वगत वर्चस्व को लेकर रक्त-सम्बन्धियों में तगड़ी खींचातानी देखने को मिल सकती है| पितृ अवस्था की इस विपरीतता का अर्थ यह है कि पार्टी के वर्तमान पितृ पुरुष करुणानिधि का अस्तित्व मिट सकता है; उनका जीवन पूर्ण विराम ले सकता है|
                इसका आयु अंक 2 देश की स्वाधीनता के मूलांक 8, देश की स्वाधीनता के मूलांक 6, देश के नामांक 3 व देश की चलित दशा के अंक 6 के साथ मित्र युति बनाता है| वैसे तो ये युतियाँ शुभ होती हैं, किन्तु जयललिता के साथ चुनावी लड़ाई में ये विपरीत बैठती हैं क्योंकि 2 स्त्री अंक है| इसका यह आयु अंक 2 चुनावी वर्षांक 7 के साथ विरोधी युति बनाता है| दो स्त्री अंकों की यह पारस्परिक विरोधी युति इस पार्टी के लिए हानिकारक सिद्ध होंगी और वे भी दोहरे रूप में| एक तो पार्टीगत रूप में और दूसरे स्त्री (जयललिता) के साथ चुनावी लड़ाई में| इस पार्टी का मूलांक 8 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ विखंडन युति बनाता है| यह युति इसमें हमारी टूट वाली बात को प्रबल करती है| यह मूलांक 8 देश के नामांक 3 के साथ व इस पार्टी का नामांक 3 देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ मित्र युति बनाता है| यह युति निर्णयगत उठापटक बताती है| अंक 3 संतान का है और अंक 8 उठापटक का| अतः इस पार्टी में करुणानिधि का संतान पक्ष बड़ी उठापटक करवा सकता है| अंक 3 मित्रता व अंक 8 लोकतंत्र का भी है| संगत युतियों की विपरीतता के कारण यह युति द्रमुक के लिए विपरीत फलदायी बन गयी है| अतः लोकसभा चुनावों के बाद द्रमुक के लिए मित्र खोजना/बनाना कठिन हो जाएगा| यदि यह किसी गठबंधन का हिस्सा बनेगी भी तो समझौता कर बनना पड़ेगा और कम/बहुत कम में संतोष करना पड़ सकता है| इस बार लोकसभा चुनावों में इस पार्टी की सीटें दो अंकों तक भी न पहुँचे तो भी अचम्भे की बात नहीं मानी जानी चाहिए|      
                   अगले भाग में बात करेंगे द्रमुक के प्रमुख करुणानिधि की| ............ जय श्री राम|