सोमवार, 14 अप्रैल 2014

लोकसभा चुनाव 2014 : भाग-10---जे. जयललिता : 'किंग' भी सम्भव और 'किंग मेकर' भी

जय श्री राम …………| आदरणीय मित्रो, प्रस्तुत है इस शृंखला का भाग-10| यह बात हम दिसंबर, 2013 में 'अखिल भारतीय सरस्वती ज्योतिष मंच' की ओर से जालंधर (पंजाब) में आयोजित ज्योतिष सम्मेलन के तीसरे और अंतिम दिन 29 दिसंबर को अपने व्याख्यान में प्रस्तुत कर चुके हैं| इसमें अन्नाद्रमुक की  मुखिया और तमिलनाडू की मुख्यमंत्री सुश्री जे. जयललिता का अंकीय विश्लेषण प्रस्तुत है| यह विश्लेषण दैनिक ‘पंजाब केसरी’ की वेबसाइट http://www.punjabkesri.in पर दिनांक 02 मार्च, 2014 को प्रकाशित हो चुका है|
जन्म-दिनांक:-24-02-1948
मूलांक:-6           भाग्यांक:-3 (30)          आयु अंक:-4 (67 वाँ वर्ष)            नामांक:-6 (वृहदंक 24)          जन्म का चलित अंक:-3 (+)                 चलित दशा:-अंक 8 (वर्ष 2007 से वर्ष 2014)

                अब बात करते हैं अन्नाद्रमुक की मुखिया और 'अम्मा' के नाम से प्रसिद्ध तमिलनाडू की मुख्यमंत्री 'चेन्नई एक्सप्रेस' जे. जयललिता की| नरेंद्र मोदी की ओर पींगें बढ़ाते हुए अचानक कम्यूनिस्टों के साथ चुनाव-पूर्व समझौता कर इन्होंने जिस प्रकार देश की राजनीति को चौंकाया है, उससे इनके 'प्रधानमंत्री बनने' के इरादे बिलकुल साफ़ प्रकट हो चुके हैं| इनका मूलांक 6 वृहदंक 24 से बना है| अंक 2 परिवार/पार्टी का है; अंक 4 मुखिया का है और अंक 6 सुख का है| अंक 2, अंक 4 व अंक 6 का यह त्रिकोण पारिवारिक सुख-भंग बताता है| जयललिता ने विवाह नहीं किया, अतः इनका पारिवारिक सुख तो भंग हो ही गया| साथ ही अंक 2 को पार्टी के रूप में रख कर देखें तो अद्भुत अंकीय विश्लेषण मिलता है| एम. जी. आर. के देहांत के बाद पार्टी पर वर्चस्व के लिए एम. जी. आर. की पत्नी के साथ जयललिता की लड़ाई  चली| इनका मूलांक 6 व नामांक 6 की भाग्यांक 3 के साथ पारस्परिक विरोध की युति है| 
                इनका आयु अंक 4 देश के आयु अंक 4 के साथ प्रतिरूप युति बनाता है| यह युति मुखिया के रूप में पक्ष मज़बूत करती है| इनका भाग्यांक 3 देश के नामांक 3 के साथ मित्र युति बनाता है| यह युति मित्रों व चुनाव/चयन सम्बन्धी मोर्चे पर शुभ है| यह भाग्यांक 3 चुनावी वर्षांक 7 के साथ प्रबल मित्र युति बनाता है| यह युति चुनाव/चयन में मित्रता सम्बन्धी अनुकूलता बताती है| यह अंक 3 देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ भी मित्र युति बनाता है| अंक 8 लोकतंत्र का है| अंक 3 के साथ इसकी यह युति यह बताती है कि इन्हें इस लोकतान्त्रिक लड़ाई में अनुकूलता रह सकती है| इनकी चलित दशा का अंक 8 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ विखंडन युति बनाता है| यह प्रधान/प्रमुख के रूप में आकांक्षा पूरा होने में बाधक है| इससे यह प्रकट होता है कि जयललिता की 'दिल्ली फ़तह' की उम्मीदें कहीं मुरझा न जाए|
                इनका मूलांक 6 व नामांक 6 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ विरोधी युति बनाता है| यह मुखिया /प्रमुख के रूप में सुख भंग करती है| इनका आयु अंक 4 ठीक यही युति देश की स्वाधीनता के मूलांक 6 व देश की चलित दशा की साथ बनता है| ये दोनों युतियाँ जयललिता के लिए ठीक नहीं है| इनका आयु अंक 4 देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ विखंडन युति बनाता है| यह प्रभुत्व वृद्धि में बाधक होती है| यह अंक 4 चुनवी वर्षांक 7 के साथ प्रबल मित्र युति बनाता है| यह युति जयललिता के लिए शुभ है| इसके कारण इन्हें गठबंधन सम्बन्धी सुविधा रहेगी| चुनावों के बाद इन्हें प्रधानमंत्री बनाने के मामले में विभिन्न दलों/व्यक्तियों का सहयोग मिल सकता है| इसके अलावा ये कोई नवीन गठबंधन भी कर सकती हैं| इस रूप में ये एन. डी. ए. की सरकार बनने की दशा में उसके साथ आ सकती हैं| इनकी चलित दशा का अंक 8 चुनावी वर्षांक 7 के साथ मित्र युति बनाता है| अंक 8 लोकतंत्र का होता है और अंक 7 मनोवांछा का| यह युति बताती है कि जयललिता अपनी मनोवांछा पूरी करने के मामले में भाग्यशाली सिद्ध हो सकती है| इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि इन लोकसभा चुनावों में जयललिता (क्रिकेट की भाषा में) छक्का मारने जा रही हैं| ग़ैर भाजपाई प्रधानमंत्री बनने की स्थिति में ये सबसे आगे रह सकती हैं| इनके नाम पर कुछ और दल जुट सकते हैं| अंकों की विचित्र अवस्था के कारण यह भी सम्भव है कि अपनी इच्छा-पूर्ति में बाधा देख कर एवं एन डी ए की सरकार बनने की सम्भावनाओं के प्रकाश में जयललिता कम्यूनिस्टों से नाता तोड़ कर एन डी ए के साथ भी चली जाए तो किसी प्रकार का आश्चर्य नहीं होना चाहिए| स्थिति चाहे इनके ख़ुद के प्रधानमंत्री बनने की हो या सत्ता वाले गठबंधन के साथ आने की; मगर इस बार देश की सत्ता और सरकार में जयललिता बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रही हैं, इस में कोई शक़ नहीं होना चाहिए| 
                      अगले भाग में बात करेंगे द्रमुक की| ............ जय श्री राम|