रविवार, 13 अप्रैल 2014

लोकसभा चुनाव 2014 : भाग-4 : सोनिया गांधी---समय मेहरबान नहीं

जय श्री राम …………| आदरणीय मित्रो, प्रस्तुत है इस शृंखला का भाग-4| वैसे तो 21-22-23 दिसंबर, 2012 को जालंधर में ‘अखिल भारतीय सरस्वती ज्योतिष मंच’ की ओर से आयोजित अंतरराष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन में अपने व्याख्यान में यह कह चुके हैं| आज इसके भाग-4 में सोनिया गांधी का अंकीय विश्लेषण प्रस्तुत है| यह विश्लेषण दैनिक ‘पंजाब केसरी’ की वेबसाइट http://www.punjabkesri.in पर दिनांक 21 फरवरी, 2014 को प्रकाशित हो चुका है|                                                            
जन्म-दिनांक:-09-12-1946
मूलांक:-9         भाग्यांक:-5 (वृहदंक 32)          आयु अंक:-5 (68 वाँ वर्ष)             नामांक:-9 (वृहदंक 36)             जन्म का चलित अंक:-3 (-)              चलित दशा:-अंक 8 (वर्ष 2007 से वर्ष 2014 तक)
                     
                 इस बार के लोकसभा चुनावों में दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की राजगद्दी पर विगत दस वर्षों से नियंत्रण रखने वाली सोनिया गांधी की ओर सब की नज़रें टिकी हुई हैं| सब को यह जिज्ञासा है कि क्या इनका यह नियंत्रण 'हैट ट्रिक' रूप ले पाएगा? सोनिया का मूलांक 9 व नामांक 9 इनके भाग्यांक 5 के साथ प्रबल विरोधी युति बनाता है| अंक 9 चुनावी लड़ाई में विजय और अंक 5 भ्रम का है| अतः इन चुनावों में सोनिया गांधी को अपने यानि अपनी पार्टी/पक्ष/गठबंधन को लेकर भ्रम की स्थिति रहेगी; वास्तविकता से दूरी रहेगी| इनका यही मूलांक 9 व नामांक 9 देश की स्वाधीनता के मूलांक 6 व चलित दशा के अंक 6 के साथ विरोधी युति बनाता है| अंक 6 सुख का है| अतः इस बार की चुनावी लड़ाई सोनिया के लिए सुख-भंगकारी सिद्ध होगी| देश की स्वाधीनता का भाग्यांक 8 इनकी चलित दशा के अंक 8 के साथ घर्षण उत्पन्न करता है| इन्हें अंक 8 की दशा वर्ष 2014 तक चलेगी| यह इनके लिए कष्टकारी व प्रभुत्वहीनता वाली सिद्ध हो सकती है| इस अवधि में इन्हें न सिर्फ़ केंद्र, बल्कि कुछ राज्यों की सत्ता से भी हाथ धोना पड़ सकता है| इनके भाग्यांक 5 की इसके साथ युति इस फल के प्रतिशत में वृद्धि कर देती है| यहं लगे हाथों एक बात और भी कर लेते हैं| सोनिया को अगली दशा होगी अंक 7 की| यह शुरू होगी वर्ष 2015 में और चलेगी वर्ष 2021 तक| यह अवधि इन पर बहुत भारी पड़ेगी, इस में भी विशेषकर इसकी पहली अर्द्धली यानि जनवरी, 2015 से जून, 2018 तक| यह अवधि इनके जीवन के लिए निर्णायक सिद्ध हो सकती है|
                 इनका आयु अंक 5 देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ विरोधी युति बनाता है| यह युति अस्थिरताकारी होने के साथ विचलन उत्पन्न करती है| यह युति सोनिया के लिए सत्ता से विचलनकारी सिद्ध हो सकती है| साथ ही इनका यह भाग्यांक 5 देश के नामांक 3 के साथ भी प्रबल विरोधी युति बनाता है| अंक 3 निर्णय/चुनाव/चयन का है| अंक 5 के बारे में हम पूर्व में कह ही चुके हैं| इनकी युति सोनिया के पक्ष में निर्णय की अवस्था भंग करती है| अतः यह कहा जा सकता है कि इस बार चुनावी लड़ाई का निर्णय सोनिया के पक्ष में नहीं जा रहा है| इनका मूलांक 9 देश के नामांक 3 के साथ प्रबल मित्र युति बना रहा है| चुनावी लड़ाई में पक्ष में निर्णय के दृष्टिकोण से यह बहुत महत्त्वपूर्ण है| साथ ही देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 इनके मूलांक 9 के साथ मित्र युति बना रहा है| इन दोनों युतियों का सम्मिश्रित फल यह है कि सोनिया के लिए यह चुनावी लड़ाई भले ही 'विजेता' वाली न रहे, किन्तु इनके पक्ष का प्रदर्शन इज्जत बचाने वाला रह सकता है| यदि अन्य अंकीय युतियाँ पक्षकारी रहती तो ये युतियाँ सोनिया को धाकड़ जीत भी दिलवा देतीं|  देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ इनका भाग्यांक 5 व आयु अंक 5 मित्र युति बनाता है| यह स्थिति इनके लिए अच्छी है| अंक 4 पितृ अवस्था का है| अंक 5 अपनी नपुंसकावस्था के कारण उसकी संगत में उसी के फल में वृद्धि कर रहा है| यह अवस्था बताती है कि सोनिया भले ही सत्ता से बाहर हो जाएँ, किन्तु बिलकुल मटियामेट हो जाएँ, ऐसा नहीं लगता| जैसा कि हमने कांग्रेस के बारे में पिछले आलेख कही थी, वही बात यहाँ सोनिया गांधी के कही जा सकती है कि ये 'किंग मेकर' भले ही न बन पाएँ, 'गेम चेंजर' कि भूमिका में नज़र आ सकती हैं| हाँ, इतना अवश्य है कि यह समय सोनिया गांधी के लिए अनुकूल नहीं है| अब इस समय की मेहरबानी इन पर नहीं रहेगी| इन्हें यानि इनके दल/गठबंधन/पक्ष को सत्ता से बाहर होना पड़ेगा|      
             अगले भाग में बात करते हैं समाजवादी पार्टी की| .......... जय श्री राम|