सोमवार, 14 अप्रैल 2014

लोकसभा चुनाव 2014 : भाग-13---राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी : बुरे सिद्ध होंगे इस बार के चुनाव

जय श्री राम ............ आदरणीय मित्रो, यह है इस शृंखला का भाग-13| इस में प्रस्तुत है 'राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी' का अंकीय विश्लेषण| यह आलेख जनवरी, 2014 का है|
जन्म-दिनांक:-25-05-1999
मूलांक:-7           भाग्यांक:-4 (वृहदंक 40)          आयु अंक:-6 (15 वाँ वर्ष)            नामांक:-1 (वृहदंक 82)          जन्म का चलित अंक:-5 (+)                 चलित दशा:-अंक 8 (वर्ष 2007 से वर्ष 2014)

                महाराष्ट्र का सबसे कम आयु में मुख्यमंत्री बनने का कीर्तिमान बनाने वाले मराठा क्षत्रप और सोनिया गांधी के विदेशी मूल को मुद्दा बना कर कांग्रेस तोड़ने और फिर महाराष्ट्र व केंद्र में उसी कांग्रेस के साथ सरकार बनाने वाले शरद पवार की पार्टी की चर्चा इस बार के चुनावों के सन्दर्भ में कुछ विचित्र प्रकार से की जानी चाहिए| हमने ऐसा क्यों कहा, इस विश्लेषण के अंत में आपके सामने यह स्पष्ट हो जाएगा| इस का मूलांक 7 चुनावी वर्षांक 7 के साथ प्रतिरूप युति बनाता है| यहाँ स्त्री अंकों की प्रधानता हो गयी है, जो कि इस पार्टी पर परिवारवाद के हावी होने को बताती है| यह बात इस पार्टी पर सौ फ़ीसदी लागू भी होती है| अब तक का यह  पारिवारिक आधिपत्य अब स्त्री प्रधानता में बदल जाएगा यानि अब इस पार्टी में पवार के परिवार की स्त्री यानि उनकी बेटी सुप्रिया सुले का दबदबा बढ़ेगा| साथ ही स्त्री अंकों की यह प्रधानता यह भी बताती है कि स्त्री-प्रधानता वाले दल कांग्रेस के साथ गठबंधन इस बार इनके लिए घाटे का सौदा सिद्ध होगा| इनका यह मूलांक 7 जन्म के चलित अंक 5 के साथ प्रबल मित्र युति बनाता है| इस अंक 7 की देश की स्वाधीनता के मूलांक 6 व देश की चलित दशा के अंक 6 के साथ मित्र युति इस पार्टी के लिए राहत की बात है| यह अंक 7 देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ भी मित्र युति बनाता है| यह युति रक्त-सम्बन्धों में या इनके कारण उठापटक बताती है| इस कारण इन चुनावों में पवार को अपने रक्त-सम्बन्धियों के कारण परेशानी का सामना करना पड़ सकता है| इसका मूलांक 7 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ प्रबल मित्र युति बनाता है| स्त्री अंक ख़राब होने के कारण यह युति इस पार्टी के विपरीत जाती है| यह युति पार्टी के नेतृत्व के लिए पारिवारिक सदस्यों/निकट के लोगों के कारण परेशानी बताती है| इसकी चर्चा में हम कर ही चुके हैं| यहाँ इस युति के कारण इसका परिमाण दोहरा हो गया है|
            इस पार्टी का भाग्यांक 4 देश की स्वाधीनता के मूलांक 6 व चलित दशा के अंक 6 के साथ विरोधी युति बनाता है| नेतृत्व के लिए यह सुख भंगकारी युति है| इसका मतलब यह हुआ कि पार्टी के नेतृत्व को ऐसी बातों का सामना करना पड़ सकता है कि जो परेशान करेंगी| यह भाग्यांक देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ विखंडन युति बनाता है| यह इसके लिए सबसे ज्यादा कष्टकारी बात है| यह युति पार्टी में टूट या विद्रोह भी करवा सकती है| हालाँकि पितृ दोष वाले अजित पवार पितृ दोष वाले अपने चाचा शरद पवार से एक न एक दिन तो विद्रोह अवश्य करेंगे और उनकी यह पार्टी तोड़ या छोड़ कर अलग हो जाएँगे, किन्तु इन लोकसभा चुनावों में भी अजित पार्टी आलाकमान के लिए परेशानी खड़ी कर दें तो कोई अचम्भा नहीं होना चाहिए| इस पार्टी का आयु अंक 6 देश की स्वाधीनता के मूलांक 6 व चलित दशा के अंक 6 के साथ प्रतिरूप युति बनाता है| यह इसके लिए राहत की बात है| यह अंक 6 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ सुख भंगकारी युति बनाता है| यह युति इस पार्टी के अंकों में पूर्व भी बनी थी| यहाँ दुबारा बनने से इसके प्रभाव का रूप दोहरा हो गया है| यह इस पार्टी के आलाकमान के लिए चिंता का विषय सिद्ध हो सकता है| इसका आयु अंक 6 देश के नामांक 3 के साथ प्रबल विरोधी युति बनाता है| यह युति ऐसे निर्णय करवाती है कि जो सुख भंग करते हैं|    
        एन सी पी की चलित दशा का अंक 8 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ विखंडन युति बनाता है| इस युति की बात हम पूर्व में कर चुके हैं| यहाँ इसके पुनः आने से इसका प्रभाव दोहरा हो गया है| यह देश के नामांक 3 के साथ मित्र युति बनाता है| यह इस पार्टी के लिए राहत की बात है| इस पार्टी की स्थापना का चलित अंक 5 देश के नामांक प्रबल विरोधी युति बनाता है| यह युति निर्णयगत अस्थिरता बनाये रखती है| यह देश की स्वाधीनता के भाग्यांक 8 के साथ विरोधी युति बनाता है| यह युति एन सी पी के लिए धुंध वाली स्थिति पैदा करती है| इसका मतलब यह है कि इसे अपने प्रदर्शन को लेकर सही हालत का अंदाज़ा न हो| इसका नामांक 1 देश की स्वाधीनता के मूलांक 6 व चलित दशा के अंक 6 के साथ जो युति बनाता है, वह पार्टी आलाकमान के लिए दुखदायी होती है| अतः एन सी पी आलाकमान को परेशानी झेलनी पड़ सकती है| यह नामांक 1 देश के भाग्यांक 8 के साथ पितृ द्रोह युति बनाता है| यह युति पार्टी के मुखिया को झटके देती है| इस पार्टी का नामांक 1 देश की स्वाधीनता के आयु अंक 4 के साथ पितृ दोष व ग्रहण योग बनाता है| ये दोनों बातें पार्टी आलाकमान के लिए परेशानी की सबब सिध्द हो सकती हैं| अतः इस  पार्टी में विरोध/विद्रोह हो सकता है| इस युति के प्रभाव के चलते यह पार्टी टूट या विद्रोह का सामना कर सकती है| इसका कोई बड़ा नेता पार्टी छोड़ सकता है| कुल मिलकर इस बार के लोकसभा चुनाव एन सी पी के लिए बुरे सिद्ध होने वाले हैं| यह पार्टी यू पी ए के साथ रहते हुए न सिर्फ़ केंद्र की सत्ता से बाहर हो जाएगी, बल्कि महाराष्ट्र की सत्ता से भी बेदखल हो जाएगी| शरद पवार समेत इसके कुछ बड़े नेता चुनाव लड़ने से मना कर सकते हैं| लड़ने की सूरत में इस पार्टी के बड़े और प्रमुख नेता चुनाव हार भी जाएँ तो कैसा आश्चर्य? 
                 अगले भाग में बात करेंगे इस पार्टी के मुखिया शरद पवार की| ............ जय श्री राम|