शुक्रवार, 1 जनवरी 2010

वर्ष 2010 में भारतीय राजनीति:-भाग-1


जय श्री राम ............ | आप की सेवा में हम यह तो रख ही चुके हैं कि वर्ष 2010 में भारत का भविष्य क्या रहना है? साथ ही मध्यप्रदेश की भावी तस्वीर की बात भी कर चुके हैं | आज हम इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हैं | अभी हम कुछ दिनों तक यह बातचीत जारी रखेंगे | 
इंडियन नेशनल काँग्रेस 
सब से पहले बात कर रहे हैं 'काँग्रेस' यानि 'इंडियन नेशनल काँग्रेस' की | इस पार्टी का कई बार नाम और ढाँचा बदला है,जिस की वजह से इस की प्रभावी तारीख़ भी बदलती रही है | हम ने इस की सभी प्रभावी तारीख़ें काम ले कर देखी हैं | इन में सर्वाधिक सफलता 02-01-1978 से मिली है | इस कारण हम यहाँ भी इसे ही काम ले रहे हैं | काँग्रेस का नामांक 2,मासांक 1,वर्षांक 7 और भाग्यांक 1 है | इस का नामांक 3 है | इस का वृहदंक है-75 | यह अंक 7 नामांक 3 का विरोधी है,जब कि अंक 5 संगतता के अनुसार फल देता है | इस पार्टी की सूर्य राशि मकर है | यह थल त्रिकोण की तृतीय राशि है | इस का चलित अंक है-8 (ओज) | काँग्रेस को कल से 33 वाँ वर्ष आरम्भ होने जा रहा है | इस का मूलांक बनता है-6 | यह अंक काँग्रेस के नामांक और चलित वर्ष का मित्र है | इस पार्टी का संयुक्तांक 4 है,जो की अंक 1 व अंक 3 से बना है | इस कारण यह पार्टी 02-01-1978 के बाद से ज़बरदस्त GODFATHER PROBLEM से ग्रस्त है | इस पार्टी पर इस के प्रभाव के बारे में फिर कभी विस्तार से बात करेंगे | चलित वर्ष 2010 काँग्रेस के नामांक का वर्ष है | साथ ही इस के भाग्यांक का मित्र वर्ष भी है,इस कारण शुभ है | इस लिए इस पार्टी के लिए इस वर्ष कुल मिलाकर लाभदायक स्थिति ही रहेगी | इस वर्ष होने वाले चुनावों में इस का प्रदर्शन उत्साहवर्धक  रहेगा | चूँकि देश की कमान इस पार्टी के अंक 8 वाले व्यक्ति के हाथों में है,इस लिए इस पार्टी और इस की केंद्र सरकार को अंक 8 के प्रभाव से बहुत परेशानी का सामना करना पड़ेगा | अंक 8 की दिशा दक्षिण है | इस कारण काँग्रेस और इस की केंद्र सरकार को दक्षिण भारत से संभंधित मसलों को ले कर ख़ासा परेशान होना पड़ेगा | ये मसले क्षेत्रों या व्यक्तियों से सम्बंधित हो सकते हैं | चलित का वर्षांक तथा दल का नामांक अंक 8 के साथ तालमेल निर्णय सम्बन्धी विषमता दर्शाता है | साथ ही यह तालमेल उठापटक और परिवर्तन भी सूचित करता है | इस कारण काँग्रेस को अपनी आंध्र सरकार को ले कर बहुत परेशानी उठानी पड़ सकती है | यहाँ मुख्यमंत्री बदलने की नौबत भी आ सकती है | साथ ही दक्षिण भारत के अन्य हिस्सों में भी काँग्रेस को बहुत दिक्क़त हो सकती है |                                                                        
सोनिया गाँधी
सोनिया गाँधी का नामांक है-9 | इस का वृहदंक बनता है-36 | यह बना है 17 और 19 से | इन का मूलांक बनता है 8 और 1 | ये दोनों परस्पर द्रोहात्मक युति बनाते हैं | इसे ही हम GODFATHER PROBLEM कहते हैं | यह पितृदोष और पुरुषदोष पैदा करती है | इसी कारण सोनिया को पिता और पति का सुख बाधित हुआ | अभी भी पुत्र का सुख तभी तक है,जब तक कि राहुल के संतान नहीं होती है | राहुल के पिता बनते ही सोनिया के इस सुख को भी ग्रहण लग जाएगा | तब हो सकता है कि सोनिया या राहुल में से किसी की जान को ख़तरा हो जाए | यहाँ ज़्यादा आशंका तो सोनिया की जान को ख़तरे की ही है | यदि यहाँ हम सोनिया के नामांक और जन्म के मूलांक (दोनों ही 9 है ) की युति का विश्लेषण करें तो यह संकेत मिलता है कि सोनिया की जान को ख़तरा बारूद और हथियारों से है | इन का भाग्यांक 5 है | इस की उक्त समीकरण  के साथ युति यह बताती है कि उन पर जानलेवा हमला किसी यात्रा के दौरान हो सकता है | ख़ैर,यह तो हम ने सोनिया जी के अंकों का सर्वकालिक विश्लेषण ही कर लिया | क्या करें,ये हमारे देश के लिए इतनी महत्त्वपूर्ण हैं कि हम इन्हें किसी भी क़ीमत पर कोई नुकसान होने देना नहीं चाहते | इन्होंने काँग्रेस में प्राण फूँक कर न सिर्फ़ उसे बल्कि भारतीय लोकतंत्र को भी मज़बूत किया है | लगभग पूरे वर्ष 2010 में सोनिया को 64 वाँ वर्ष चल रहा होगा | इस का मूलांक बनता है-1 | यही काँग्रेस का भाग्यांक भी है | अंक 6 शुक्र यानि सुख का, अंक 4 पितृदोष का और अंक 1 नेतृत्व व सरकार का अंक है | इन की युति सोनिया के नेतृत्व को बराबर बाधित रखेगी | इन्हें अपनी पार्टी के ताने-बाने को ले कर बहुत परेशान रहना पड़ेगा | हालाँकि अंक 1 की प्रबलता के कारण पार्टी इन के नेतृत्व में अच्छा प्रदर्शन करेगी | इस की प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी | सोनिया जी को कांग्रेस की ही भाँति अंक 8 से बचना चाहिए,साथ ही अंक 4 से भी | अंक 8 दक्षिण दिशा का है और अंक 4 वरिष्ठता का | अतः सोनिया को वे ही परेशानियाँ दरपेश आ सकती हैं,जिन का हम ने काँग्रेस के लिए जिक्र किया है | अंक 4 के कारण इन्हें ज़्यादा दिक्क़त वरिष्ठ लोगों से आ सकती है | संभवतः वरिष्ठ लोगों को पार्टी या सरकार से हटाना भी पड़ जाए | इस फेर में दक्षिण भारत (आन्ध्र) के मुख्यमंत्री को भी बदल सकती हैं |