गुरुवार, 21 जनवरी 2010

अच्छा प्रश्न है,हम अवश्य जवाब देंगे

जय श्री राम ........... | मित्रो,हमारे BLOGSPOT वाले ब्लॉग पर एक सुधि पाठक वैतरणी जी ने एक प्रश्न के रूप में अपनी राय लिखी है | इन्होंने लिखा है-"क्या आप समझते है कि पूरी दुनिया की उथल-पुथल को सिर्फ़ दस अंकों में ईश्वर ने कोडिफाई कर रखा है ? इस तरह तो दुनिया का सारा गणित सिंपल हो गया है | आप को सिर्फ़ दस अंकों पर नज़र रखनी है | एक छोटा-सा परमाणु सैकंड के अर्द्धांश में लाखों घटी गणनाएँ उत्पन्न करता है | स्थूल सृष्टि को सिर्फ़ दस अंकों में समेटना थोड़ी टेढ़ी बात लगती है | दावे प्रस्तुति से कुछ नहीं होगा |" ............मित्रो,हमारी प्रबल इच्छा तो यही है कि इस सवाल का अभी जवाब दें,मगर एक बहुत बड़ी बाधा है | हमें इंदौर में एक ज्योतिष सम्मेलन में शामिल होने के लिए कल सुबह रवाना होना है | हम उस की तैयारियों में लगे हैं | 25 की शाम को लौटेंगे | 26 को तब तक बीत चुके 5 दिनों का बकाया काम निपटाएँगे | 27 को हम वैतरणी जी के इस सवाल का विस्तार से जवाब देंगे |