गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

आज की रिलीज़ फ़िल्में

जय श्री राम ............| फ़िल्म उद्योग की लगभग स्थापित परंपरा से हट कर आज तीन फ़िल्में रिलीज़ हुई हैं | एक-एक कर करते हैं इन की बात | सब से पहले बात कर ली जाए आज के समीकरणों की | आज का मूलांक 4 एवं भाग्यांक 9 है | इन की युति विखंडन योग निर्मित करती है | आज गुरुवार है | इस का अंक है-3 | अभी चलित का अंक है-8 (ओज) |
रात गयी बात गयी 
सब से पहले लेते हैं सौरभ शुक्ला द्वारा निर्देशित फ़िल्म 'रात गयी बात गयी' की | इस फ़िल्म के नामांक का वृहदंक बनता है-28 | यह बना है 8 -6 -8 -6 से | यह समीकरण सीधे-सीधे शुक्र के प्रबल भ्रष्ट होने को बताता है | फिल्मोद्योग में तो शुक्र की अच्छी एवं बलिष्ठ स्थिति होना बहुत ज़रूरी है | यहाँ तो मामला ही सिरे से उलटा है | नामांक का मूलांक बनता है-1 | 8 -6 -8 -6 के साथ इस की युति असफलता योग बनाती है | आज के मूलांक के साथ यह पितृदोष पैदा करता है | फ़िल्म के निर्देशक सौरभ शुक्ला का नामांक बनता है-4 | यह फ़िल्म के नामांक के साथ पितृदोष बनाता है | इस प्रकार इस फ़िल्म के साथ पितृदोष की प्रबल स्थिति बन रही है | अतः इसे सफलता मिलाती नहीं दिख रही है | यह अपनी लागत निकल ले तो वही बहुत समझा जाना चाहिए | हाँ,आज के भाग्यांक 9 के साथ फ़िल्म और निर्देशक के अंकों की युति फ़िल्म के GODFATHER यानि निर्देशक के लिए आगे को ले कर अनुकूलता बताती है |
बोलो राम 
नए निर्देशक राकेश चतुर्वेदी की फ़िल्म 'बोलो राम' का नामांक बनाता है-9 | इस का वृहदंक है-27 | यह बना है 19 और 8 से | इन दोनों में परस्पर द्रोहात्मक युति बनती है | नामांक का मूलांक 9 इस से संयोग कर इसे प्रबल बनाता है | इस के निर्देशक राकेश चतुर्वेदी का नामांक है-1 | इसका वृहदंक है-55 | यह बना है 18 और 37 से | ये दोनों परस्पर सौहार्द्र युति निर्मित करते हैं | किन्तु अंक 4 के साथ पितृदोष की प्रबलता के कारण उस के साथ बने समीकरण अनुकूलता नष्ट कर रहे हैं | इस लिए फ़िल्म के खाते में सफलता आने के योग तो कम हैं,मगर अंक 9 की प्रबलता के कारण इस से जुड़े लोगों को सम्मान/पुरस्कार की प्राप्ति हो सकती है |  
 एक्सीडेंट ऑन हिल रोड  
इस फ़िल्म का नामांक बनता है-1 | इस का वृहदंक बनता है-64 | यह बना है 26 -12 -12 -14 से | इन के मूलांक बनते हैं-8 -3 -3 -5 | यह समीकरण निर्णयगत विषमता और अस्थिरता सूचित करता है | फ़िल्म का नामांक आज के मूलांक के साथ पितृदोष पैदा करता है | निर्देशक महेश नैयर का नामांक है-5 | यह बना है 23 और 9 से | यह भी अस्थिरता ही सूचित करता है | अतः सफलता तो इस फ़िल्म के दामन से भी दूर ही रहती लग रही है |...तो मित्रो,इस प्रकार यह साल फ़्लॉप फ़िल्मों की तिकड़ी दे कर जा रहा है | क्या कर सकते हैं ?