शनिवार, 30 जनवरी 2010

ज्योतिष के व्यावसायिक स्वरूप पर आपत्ति क्यों ?

जय श्री राम ............ | आदरणीय मित्रो,आज हम आप के एक बार फिर रू-ब-रू हैं | बात तो एक बार फिर से दिल की ही है | हमारे एक शुभचिंतक दीपक सक्सेना ने एक बात रखी है | इन का कहना है-"आप भी तो पैसे ले कर अपनी विद्या का मिसयूज़ ही कर रहे हैं |" बात दिल को लग गयी | ......... अगर हम या कोई भी व्यक्ति ज्योतिष को व्यावसायिक रूप से करता है तो इस में ग़लत क्या है ? यह हमारा पूर्णकालिक व्यवसाय है और हमें इस बात पर गर्व है | अपने काम या व्यवसाय पर शर्मिंदगी तो उन लोगों को होनी चाहिए,जो कि इस में बेईमानी करते हैं | हम ने ज्योतिष को पूर्णकालिक समर्पण भाव से अपना रखा है | एक बात बताइए | आप अन्य किसी भी जगह सेवा/परामर्श लेते समय उन का निर्धारित शुल्क अदा करते हैं,तो फिर ज्योतिषी को उस का परामर्श शुल्क अदा करने के समय कांपने क्यों लगते हैं ? हमारा घर क्या कोई सामाजिक संस्था या सरकार चलाती है ? ज्योतिष सम्बन्धी हमारे शोधकार्य का ख़र्च कौन उठाता है ?  आप की यह मुफ़्तखोरी की आदत कब छूटेगी ? हम जो समय और मेहनत किसी केस के विश्लेषण में लगते हैं,अगर उस का सिला चाहते हैं तो इस में कुछ भी अनुचित नहीं है | डाक्टरों को मोटी-मोटी फ़ीस देकर भी आप का केस वहाँ पिट जाता है | आप अपना-सा मुँह ले कर वहाँ से लौट आते हैं,मगर ज्योतिषी को उस की थोड़ी-सी फ़ीस भी आप से दी नहीं जाती | वहाँ आप फटाक से काम की गारंटी मांग लेते हैं | अपने इस नज़रिए को बदलिए | ज्योतिषी कोई आसमान से उतरा जीव नहीं है | यह भी आप ही के बीच का प्राणी है | ज्योतिषी को उस की फ़ीस अदा करनी सीखिए | हम ने तो अपने समस्त व्यावसायिक प्रावधानों के बीच नि:शुल्क परामर्श के प्रावधान भी बना रखे है,जिन्हें आप हमारे ब्लॉगों पर पढ़ सकते हैं | आप उन का पालन कर उस दायरे में नि:शुल्क परामर्श भी प्राप्त कर सकते हैं | यदि हमारी सेवा लेना चाहते हैं तो यह तो आप को करना ही होगा | यदि आप इतना भी नहीं कर सकते तो हमें नि:शुल्क परामर्श के लिए परम क्षमा करें | ...अब आज के आनंद की जय | ...........जय श्री राम |