मंगलवार, 13 अप्रैल 2010

एक निवेदन नि:शुल्क परामर्श के सन्दर्भ में

       जय श्री राम ........... | आदरणीय मित्रो, आज सुबह से आप की सेवा में एक निवेदन ले कर उपस्थित होना चाह रहे थे,मगर हमारी कोशिश सफल नहीं हो रही थी | कारण था कि इन्टरनेट साथ नहीं दे रहा था | अब जा कर कुछ काम बनता दिख रहा है | हमें यह कहने में किसी भी प्रकार का कोई संकोच नहीं है कि अंक ज्योतिष को हम ने पूर्ण-कालिक कार्य के रूप में अपना रखा है,जिस का सीधा-सा तात्पर्य यह है कि यह हमारी आजीविका का साधन भी है | इसी के लिए हम ने महाविद्यालय व्याख्याता की सेवा ( विभागाध्यक्ष के पद से ) छोड़ी | अंक ज्योतिष और बॉडी लैंग्वेज को हम ने मात्र पेट-भराई के लिए नहीं अपना रखा है,अपितु हम इस क्षेत्र में निरंतर शोधरत भी हैं | हमारे इस श्रम का परिणाम भी आप हमारी गणनाओं में देख भी रहे हैं | किन्तु जैसा कि हर व्यवसाय में कुछ-न-कुछ परमार्थ कि गुंजाइश भी रहती है,सो इस में हम ने भी बना रखी है | अपने अन्तरंग मित्रों के लिए तो हमारी सेवा सदैव ही नि:शुल्क है,भले ही चाहे वे घर पर हमारे सामने हों,फ़ोन पर हों  या फिर किसी साईट पर ऑन लाइन | कुछ बन्धु कहते हैं कि हम तो आप की मित्र-सूची में सम्मिलित हैं,अब हमें तो नि:शुल्क बताइए;और फिर वे एक लम्बी-चौड़ी प्रश्नावली हमारे सामने रख देते हैं | यह उन की अनधिकृत चेष्टा है | एक बात और भी यहाँ सपष्ट कर दें कि किसी साईट पर मित्र-सूची में सम्मिलित होने का अर्थ यह नहीं है कि आप 'अन्तरंग मित्र' की परिभाषा में आ गये |   विगत सात वर्षों से हम औपचारिक रूप से प्रत्येक मंगलवार फ़ोन पर नि:शुल्क परामर्श देते हैं | वर्ष 2003-04 में यह समय दिन में 11:30 बजे से से 12:30 बजे था | वर्ष 2005 से सितम्बर 2006 तक यह रात्रि 9 बजे से था | उस के बाद से यह समय रात्रि 9 बजे से 11 बजे तक है | इस समयावधि में कोई भी व्यक्ति एक फ़ोन कॉल पर एक सवाल कर सकता है | हाँ,प्रश्न अवश्य संक्षिप्त रहना चाहिए | इस समय दो फ़ोन लाइनें खुली रहती हैं | प्रभु-कृपा से अच्छी-ख़ासी तादाद में फ़ोन कॉल आते हैं | इस समय प्रश्न पूछने के लिए किसी परिचय की आवश्यकता नहीं रहती है | दिसंबर 2009 से हम ने नि:शुल्क परामर्श की यह सुविधा अपने ब्लॉग पर भी आरम्भ कर दी है | मंगलवार को पूरे दिन यह सुविधा उपलब्ध है | हाँ,इस सेवा के लिए हम ने कुछ प्रावधान नियत कर रखे हैं |  मंगलवार को आप हमारे BLOG  SPOT वाले ब्लॉग पर जाएँ और वहाँ समर्थकों की सूची में अपनी प्रविष्टि करने के उपरान्त  अपने ई मेल पते के साथ एक संक्षिप्त प्रश्न रखें | उत्तर हम आप को आप के ई मेल से निजी रूप से भेजेंगे | आप को समर्थक-सूची में अपनी प्रविष्टि करने और प्रश्न के संक्षिप्त होने के विशेष ध्यान रखना है | हमारी यह नि:शुल्क परामर्श की सेवा सिर्फ़ BLOG SPOT वाले ब्लॉग पर उपलब्ध है,WORD PRESS और MEDIA CLUB OF INDIA   ब्लॉग पर नहीं | कुछ मित्र हमारे प्रावधानों का पूरी तरह पालन किये बिना या अन्य स्थानों (FECEBOOK,ORKUT,IBIBO,WORDPRESS,MEDIA CLUB OF INDIA आदि) पर नि:शुल्क परामर्श के लिए प्रश्न रख देते हैं | ऐसे में हमें बहुत खेद के साथ वहाँ मना करना पड़ता है | ऐसा करते हुए बिलकुल भी अच्छा नहीं लगता,मगर व्यवस्था-निर्वाह के लिए ऐसा आवश्यक होता है | तब प्रश्न पूछने वाले बन्धु बुरा मान जाते हैं | मित्रो,ऐसा कदापि न करें | नि:शुल्क परामर्श की हमारी अपनी सीमाएँ हैं | हम उन के दायरे में ही आप की सेवा कर सकते हैं | अब उन सेवाओं का लाभ लेने के लिए हमारे तयशुदा प्रावधानों का पालन तो करना ही होगा | यदि कोई ऐसा नहीं करता है,तो वह हमें नि:शुल्क परामर्श के लिए बिलकुल क्षमा करे | इतना व्यवस्थागत शिष्टाचार तो आप को निभाना ही होगा | हम अपने फ़ोन नंबर और नि:शुल्क सेवा वाले ब्लॉग का पता आप को बता देते हैं | हमारे ये फ़ोन नम्बर राजस्थान सर्किल के हैं | तो आप कॉल करते समय उसी हिसाब से 0 लगाएँ या न लगाएँ |  फ़ोन नम्बर-99298-42668,90241-79535 --- | ब्लॉग है---http://ankjyotish369.blogspot.com.---ध्यान रखिए फ़ोन पर नि:शुल्क सेवा का समय है-प्रत्येक मंगलवार रात्रि 9 बजे से 11 बजे ( भारतीय समयानुसार ) | आप से पुनः कर-बद्ध निवेदन है कि प्रश्न पूछते समय हमारे नियत प्रावधानों का पालन अवश्य करें |   
              आशा है कि आप हमारी किसी भी बात को अन्यथा न लेते हुए सहयोग करेंगे और अपना आशीर्वाद व स्नेह सदैव बनाये रखेंगे | तो मित्रो,आज बस इतना ही | ........ अब आज के आनंद की जय | ............ जय श्री राम |