बुधवार, 30 दिसंबर 2009

वर्ष 2010 में मध्यप्रदेश

जय श्री राम | ...........मध्यप्रदेश का नामांक बनता है-8,जो कि 44 से बना है | अंक 4 पितृदोष का अंक है | अंक 8 के साथ इस की युति विखंडन और विचलन बताती है | 01-11-1956 को बने मप्र की सूर्य राशि वृश्चिक है | इस का मूलांक 1 तथा भाग्यांक 6 है | ये अंक भाजपा के मूलांक-भाग्यांक के साथ 'प्रतिरूप युति' बनाते हैं | इस की स्थापना का चलित अंक 9 (ऋणात्मक) है | वर्ष 2010 में इस की स्थापना का 54 वाँ और 55 वाँ वर्ष होगा | 54 वें वर्ष का अंक बनता है-9 और 55 वें वर्ष का अंक बनता है-1 | अंक 9 चलित वर्ष 2010 के अंक 3 का प्रबल सहयोगी है | यह मप्र के भाग्यांक 6 का सहयोगी है  | इस लिए राज्य की प्रतिष्ठा-वृद्धि होगी | इस के नामांक 8 की युति रंग में भंग करती है | चूँकि अंक 1  वरिष्ठता,मंत्रिमंडल और व्यवस्था का है,इस लिए कुछ वरिष्ठ नेताओं या मंत्रियों तथा व्यवस्था से सम्बंधित संकट संभव है | किसी पूर्व मुख्यमंत्री के साथ तगड़ा विवाद जुड सकता है, या उस का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है | अंक 8 से ग्रसित विखंडित अंक 3 वाले किसी पूर्व मुख्यमंत्री की पुनर्प्रतिष्ठा संभव है या इस का रास्ता निकल सकता है ( जैसे- उमा भारती ) | उम्मीद है कि 31 अक्टूबर तक शासन बिना किसी ख़ास उठा-पटक के चलता रहेगा | 01 नवम्बर से शिवराज सिंह चौहान के लिए समय की प्रतिकूलता आरम्भ हो रही है | 14 अक्टूबर,2008 को E TV (मप्र-छग) पर हम अपने सीटवार  भविष्यवाणी कार्यक्रम "सितारों की चाल" में कह चुके हैं कि शिवराज सिंह चौहान को 29-11-2010 से 04-03-2012 के बीच पड़ छोड़ना पड़ेगा | मप्र को 01-11-2010 से 55  वाँ वर्ष (अंक 1 ) शुरू हो जाएगा | यह चलित वर्ष 2010 का सहयोगी अंक है | इस लिए मंत्रिमंडल में परिवतन/विस्तार संभव है | नामांक 8 की इस के युति विपक्ष के प्रभुत्व में कमी बताती है | साथ ही विपक्ष में स्त्री पक्ष के प्रभुत्व में कमी एवं पारस्परिक तालमेल में कमी भी बताती है | इस लिए काँग्रेस में जमुना देवी का प्रभाव कम हो सकता है |