गुरुवार, 31 अक्तूबर 2013

राजस्थान विधानसभा चुनाव-2013 : भाग-1 : 'राजस्थान' और अशोक गहलोत

जय श्री राम ............| आदरणीय मित्रो, आपसे बकाया बातों का सिलसिला तो चल ही रहा है| उनके बीच में यह बात पहले कर लेते हैं| बात तो हम राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और दिल्ली  यानी चारों राज्यों की करेंगे| शुरू करते हैं राजस्थान से| यह भविष्यवाणी दिनांक 27-03-2013 (बुधवार) से आरम्भ होकर 05-08-2013 (सोमवार) को पूर्ण हुई| अंक ज्योतिष और बॉडी लैंग्वेज पर आधारित हमारे मासिक अख़बार 'अंक प्रभा' के सितम्बर माह के अंक में प्रकाशित हो चुकी है| इस सम्बन्ध में सीटवार भविष्यवाणी का हमारा कार्यक्रम 'चुनावी अंकगणित' E TV (राजस्थान) से दिनांक 12-08-2013 से 09-09-2013 तक सोमवार से शुक्रवार को रात्रि 09:30 से 10 बजे प्रसारित हो चुका है]  

राजस्थान
निर्माण-दिनांक:-30-03-1949        नामांक:-5      मूलांक:-3      भाग्यांक:-2
आयु अंक:-2 (65 वाँ वर्ष)           चलित दशा:-अंक 4 (वर्ष 2012 से 2015 तक)
राजस्थान का मूलांक 3 इसके नामांक 5 + चुनावी वर्षांक 6 का विरोधी है| इसका मूलांक 3 इसके भाग्यांक 2 + आयु अंक 2 का परम मित्र है| राज्य का आयु अंक 2 + भाग्यांक 2 इसके नामांक 5 का प्रबल मित्र और मूलांक 3 का मित्र है| यह अंक चुनावी वर्षांक 6 + मूलांक 3 का मित्र है| यह निर्माण के चलित अंक 9 का विरोधी है| अंक 2 की युतियाँ स्त्री अंक वाले पुरुष या स्त्री को अधिक अनुकूलता देंगी| अतः वसुंधरा राजे को अधिक अनुकूलता संभव है| भाजपा के स्त्री अंक मज़बूत है| लगभग इतने ही मज़बूत स्त्री अंक कांग्रेस के भी हैं| मुख्यमंत्री अशोक गहलोत स्त्री अंकों के कृपापात्र हैं| इस कारण उनके अंकों का लाभ कांग्रेस को मिलेगा| राज्य की चलित दशा (अंक 4) व इसके आयु अंक 2 के बीच प्रबल मित्रता का भाव है, किन्तु इसके व्यतिक्रम में मात्र समभाव युति है| यह साझेदारी भाव को भंग करती है, साथ ही निकट के लोगों से सम्बंधित झटके देती है| अतः अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे के निकट के कुछ ख़ास लोगों को झटका लग सकता है या वे हार सकते हैं|

अशोक गहलोत
जन्म-दिनांक:-03-05-1951       नामांक:-9         मूलांक:-3         भाग्यांक:-6        आयु अंक:-9 (63 वाँ वर्ष)         चलित दशा:-अंक 5 (वर्ष 2013 से 2017 तक)
अशोक गहलोत का मूलांक 3 राजस्थान के भाग्यांक 2 + आयु अंक 2 के साथ प्रबल मित्र युति बनाता है| यह राजस्थान के मूलांक 3 के साथ प्रतिरूप युति तथा राजस्थान के नामांक 5 के साथ प्रबल विरोधी युति बनाता है| इनका नामांक 9 + आयु अंक 9 इनके भाग्यांक 6 + चुनावी वर्षांक 6 का विरोधी है| यह इनकी चलित दशा (अंक 5) का प्रबल विरोधी है| इनका मूलांक 3 इनके भाग्यांक 6 + चुनावी वर्षांक 6 + चलित दशा (अंक 5) का प्रबल विरोधी है| अंक 3 जनसंपर्क/लोगों को अपन बात समझा पाने तथा निर्णय का है| अतः गहलोत जनता को अपनी बात पूरी तरह/समुचित/पर्याप्त ढंग से नहीं समझा पाएँगे| इसी कारण ही इनके पक्ष में निर्णय होने में बहुत बड़ी बाधा है| गहलोत ने दूसरी बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी 13-12-2008 को शनिवार को| यहाँ दिन-अंक 8, मूलांक 4 और भाग्यांक 8 ठहरा| तब इन्हें 58 वाँ वर्ष चल रहा था, इस कारण इनका आयु अंक बना-4| अंक 4 व अंक 8 में विखंडन युति बनती है| इनके उक्त शपथ-ग्रहण के अंकों में तो यह विखंडन युति दोहरे भाव में उपस्थित है| यह युति फिर मुख्यमंत्री बनने में बड़ी बाधा है| यहाँ पितृ अंक भ्रष्ट हो गये हैं| इसी कारण गहलोत को पूरे पाँच साल जैसे-जैसे कर पितृ पुरुष के रूप में सरकार चलाने में बहुत परेशानियाँ उठानी पड़ीं| इनका मूलांक 3 राजस्थान के मूलांक 3 + स्वयं के नामांक 9 + आयु अंक 9 का प्रबल मित्र है| यह युति चुनावी लड़ाई में पक्ष में निर्णय करवाने में बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है| अतः कांग्रेस को जो भी सफलता मिलेगी, उसमें अशोक गहलोत के अंकों की सबसे बड़ी भूमिका रहेगी| 
         मिलते हैं अगली पोस्ट के साथ| ............. जय श्री राम|