मंगलवार, 15 जनवरी 2013

कौन बनेगा प्रधानमन्त्री? भाग-1


जय श्री राम ............| आदरणीय मित्रो, आज देश में सबसे बड़ी चर्चा है कि अगले लोकसभा चुनाव कब हो सकते हैं और इन चुनावों के बाद देश का प्रधानमंत्री कौन बन सकता है? हम अपनी यह श्रृंखला इसी विषय पर केन्द्रित कर रहे हैं|  
भारत : अंक 5, 6 व 8 वाला व्यक्ति बनेगा प्रधानमन्त्री
स्वाधीनता:-15-08-1947
मूलांक:-6         भाग्यांक:-8          आयु अंक:-3/4 (66/67 वाँ वर्ष)           नामांक:-6 (INDIA से )              स्वाधीनता का चलित अंक:-1, 4               चलित दशा:-अंक 3 (वर्ष 2013 तक)
भारत की सूर्य राशि सिंह है| भारत के मूलांक-भाग्यांक में भ्रष्ट शुक्र की युति है| वर्ष 2013 में अंक 6 इस युति को प्रबल बना रहा है| अतः देश के नेतृत्व पर अभी तो धन सम्बन्धी और घपले आने हैं| 14-08-2013 तक आयु अंक 3 है, जो कि शुक्र के दोहराव (66) से बना है| इसमें भी शुक्र का परिमाण बढ़ जाएगा, जब चलित में भी अंक 6 आ जाएगा| वह समय होगा 21 अप्रेल से 20 मई| अतः यह माना जाना चाहिए कि इस अवधि में वर्तमान केंद्र सरकार का पतन हो जाएगा या वैसी ही स्थिति बन जाएगी और देश में लोकसभा चुनाव की तस्वीर साफ़ हो जाएगी| 15 अगस्त के बाद देश के आयु अंक 4 (67 वाँ वर्ष) में कभी भी चुनाव हो सकते हैं| यह भी तब संभावना ज़्यादा है, जब कि कैलेण्डर वर्ष 2013 हो| अंक 4 भारत के भाग्यांक 8 के साथ विखंडन युति बनाता है| यह युति नेतृत्व के विरुद्ध जाती है| यह प्रतिकूलता दो तरह की होती है- एक तो व्यक्तिपरक और दूसरी समूहपरक| व्यक्तिपरक का तात्पर्य  सरकार के नेता यानि प्रधानमंत्री से है; जब कि समूहपरक से तात्पर्य सत्ताधीश गठबंधन से है| अगले लोकसभा चुनाव के बाद ये दोनों ही प्रतिकूलताएँ अपने प्रतिफलित रूप में होंगी यानि अगली बार प्रधानमंत्री और शासक गठबंधन, दोनों ही अभी वाले नहीं होंगे| इसका तात्पर्य यह हुआ कि अगली बार ग़ैर यूपीए सरकार आएगी| यह सरकार भाजपानीत एन डी ए की हो सकती है| तब का चलित वर्ष 2013 अंक 6 वाला है, जो कि भाजपा का मूलांक है| एन डी ए के निर्माण की कोई तारीख़ नहीं है, इसलिए हमें इस बारे में सभी गणनाएँ भाजपा को केंद्र में रख कर ही करनी होंगी| एक ख़ास बात की तरफ़ बराबर ध्यान रखना होगा और वह यह कि देश का अगला प्रधानमन्त्री जो भी होगा, उसके यहाँ अंक 5, 6 व 8 की बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका होगी|
                    मिलते हैं इस श्रृंखला के अगले भाग के साथ| ............ जय श्री राम|