शुक्रवार, 24 सितंबर 2010

१०० वीं पोस्ट ::: आशीर्वाद दीजिए


जय श्री राम ............ | आदरणीय मित्रो,कल हम ने आप से निवेदन किया था कि आज की यह पोस्ट हमारे इस BLOGSPOT वाले ब्लॉग की 100 वीं पोस्ट के रूप में होगी | तो लीजिए हाज़िर है आप की सेवा में यह पोस्ट | 23 नवम्बर,2009 को इस ब्लॉग की पहली पोस्ट स्वागतार्थ थी | तब से अब तक 10 महीनों के इस सफ़र में 7000 से ज़्यादा पाठक और 83 समर्थक/अनुसरणकर्ताओं के आशीर्वाद के साये तले यह ब्लॉग निरंतर आगे बढ़ रहा है | इसे आरम्भ करते समय से हम यह कहते आ रहे हैं कि इस ब्लॉग के समर्थकों/अनुसरणकर्ताओं को उन के मूलांक का अंकज्योतिष और बॉडी लैंग्वेज पर आधारित विश्लेषण नि:शुल्क भेजा जाएगा | अब तक यह प्रक्रिया तैयारी के चरण में थी | अब तैयार है | हमारे सभी समर्थकों/अनुसरणकर्ताओं से यह निवेदन है कि आप हमें अपने जन्म का पूर्ण विवरण (दिन,दिनांक,समय व स्थान) तथा ई मेल पता भेजें | हमें आप के जन्म-विवरण में अगर कोई और बात भी ख़ास लगी,तो वह भी आप की सेवा में रख देंगे | हाँ,हम आप को यह सारी जानकारी निजी तौर पर आप के ई मेल से ही देंगे,सार्वजनिक रूप से यहाँ नहीं | अभी यह सुविधा हमारे WORDPRESS और MEDIA CLUB OF INDIA वाले ब्लॉगों पर नहीं है | जब कभी अनुकूलता हुई तो वहाँ भी यह सुविधा आरम्भ करने का प्रयास करेंगे | आप को इस ब्लॉग पर कोई कमी अथवा आवश्यकता जान पड़े तो हमें अवश्य बताइएगा | हम यह बात खुले तौर पर स्वीकारते रहे हैं कि हम ब्लॉगिंग  के बारे में ज़्यादा कुछ नहीं जानते | जो कुछ सीखा है,वह यहीं लिखते-लिखते ही सीखा है | मित्रो,आप इस बात पर गर्व कर सकते हैं कि आप के आशीर्वाद से फल-फूल रहे अंक ज्योतिष और बॉडी लैंग्वेज पर आधारित हमारे ये तीनों ब्लॉग सर्वथा अनूठे और यूनिक हैं | दो बातें और | पहली बात ---कुछ मित्रों को यहाँ का टिप्पणी मोडरेशन अखरता है,मगर ऐसा करना बहुत ज़रूरी हो गया था | आरम्भ में तीनों ही ब्लॉग इस से मुक्त थे,मगर कुछ लोगों ने इन्हें अपनी खाला का खेत समझ लिया कि गधों की तरह जब चाहा-जैसे चाहा,उल-जुलूल कुछ भी लिख मारा | यह हमारी मेहनत का सरासर अपमान था | अभी भी हम लगभग हर टिप्पणी प्रकाशित करते हैं,भले ही हम टिप्पणीकर्ता के विचारों से सहमत हों कि ना हों | आप सार्थक रूप में सोद्देश्यपूर्ण ढंग से अपने विचार रखिए | सदा स्वागत है | आप कोई सुझाव दे सकते हैं | यदि आप हमारे विषय (अंक ज्योतिष और बॉडी लैंग्वेज) से सम्बन्धित किसी भी बिंदु पर जानकारी चाहते हैं तो निर्द्वंद्व भाव से हमें लिखिए | आप की हर बात हमें शिरोधार्य है | दूसरी बात---हम ने ब्लॉगों पर नि:शुल्क परामर्श बंद कर दिया है | बार-बार इस सूचना के बाद भी कुछ पाठक इस का आग्रह कर हमें शर्मिंदा करते हैं | कृपया ऐसा न करें | ज्योतिष हमारे लिए पूर्ण-कालिक कर्म है | आप जिस से जीवन के लिए मार्ग-दर्शन जैसी अत्यंत महत्त्वपूर्ण बात की अपेक्षा करते हैं,उस के लिए सेवा-शुल्क देने की आदत भी डालिए | मुफ़्तखोरी की आदत सभ्य लोगों को शोभा नहीं देती | 
            अब करते हैं वह बात,जिस के लिए हम ने कल की पोस्ट में आप से वादा किया था कि वह जान कर आप का दिल खिल उठेगा | वह बात यह है कि घोटेवाले,माँ बगलामुखी और परम पूज्य गुरुदेव देवराहा बाबा के आशीर्वाद से हम एक मासिक पत्र का प्रकाशन नवम्बर माह से आरम्भ करने जा रहे हैं | 'अंक प्रभा' नाम का यह पत्र अंकज्योतिष और बॉडी लैंग्वेज पर आधारित देश का एकमात्र पत्र होगा | अभी तो यह मासिक रूप में प्रकशित होगा,मगर फरवरी,२०११ से यह पाक्षिक रूप में प्रकशित होगा | जयपुर से प्रकशित होने वाले इस पत्र के सम्पादक का दायित्व श्री कैलाश प्रज्ञ संभालेंगे | प्रधान सम्पादक का दायित्व आप के इस मित्र कुमार गणेश को मिला है | इस पत्र को भी आपके आशीर्वाद रुपी प्राण-वायु की आवश्यकता रहेगी | इस पत्र से सम्बन्धित अन्य विशिष्ट और विस्तृत जानकारी बहुत जल्द आप की सेवा में रखेंगे |
            आज बस इतना ही | अब आज्ञा दीजिए | ......... आज के आनंद की जय | ......... जय श्री राम |