रविवार, 29 नवंबर 2009

बाल ठाकरे के घर फिर बगावत: हमारी भविष्यवाणी सही रही









जय श्री राम ............ |
शिवसेना के सुप्रीमो बाल ठाकरे के घर एक बार फिर बगावत का बिगुल बज चुका है | उन के दूसरे बेटे जयदेव की पत्नी स्मिता ने उन की सत्ता को खुली चुनौती देते हुए कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा कर दी है | लोगों के लिए संभवतः यह आश्चर्य का विषय हो सकती है,मगर हमारे लिए नहीं | कारण यह है कि हम तो बाल ठाकरे के लिए इस तरह की परेशानिओं की भविष्यवाणी पहले ही कर चुके हैं | अक्टूबर,2009  में हुए महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव  की भविष्यवाणी करते हुए हम ने कहा था-"..........शिवसेना का 44 वाँ वर्ष चल रहा है | यह अंक दोहरी पितृ समस्या से ग्रस्त है | अतः उसे न सिर्फ़ सत्ता से वंचित रहना पड़ेगा,बल्कि 'पितृ पुरुष'(बाल ठाकरे) को कई समस्याएँ भी झेलनी पड़ेंगी | बाल ठाकरे का 83 वाँ वर्ष चल रहा है | यह अंक बाल ठाकरे की बॉडी लैंग्वेज में भी ख़राब है | उम्र का यह वर्ष  ग़लत निर्णय का वर्ष है | अंक 01 की दशा में चल रहे ठाकरे के लोकप्रिय नाम (बाला साहेब) का अंक भी यही है,किन्तु संयुक्तांक इन के विपरीत है | अतः 2011 तक इन्हें अपने राजनीतिक वर्चस्व के लिए परेशान रहना पड़ेगा | ........."(इण्डिया न्यूज़---अक्तू 16,2009 एवं  फ़्यूचर समाचार---नव 2009) |                                                                                                                                          आज हम इस में कुछ और जोड़ रहे हैं | बाल ठाकरे का आयु-अंक है-02 (83 वाँ वर्ष)  | यह अंक भावनाओं,साझेदारी,परिवार तथा स्त्रियों  का है | यह अंक 03 व 08 से बना है | हम पहले ही कह चुके हैं कि अंक 03 निर्णय का है | अंक 08 उठापटक व परिवर्तन का है | अंक 02 की इन अंकों के साथ युति यह बताती है कि ठाकरे को साझेदारी,परिवार,स्त्रियों,तथा भावनाओं को ले कर अभी और भारी उठापटक व परिवर्तन का सामना करना पड़ सकता है | वर्ष 2011 तक ठाकरे को अपने स्वास्थ्य को ले कर विशेष सावधानी बरतनी चाहिए | वर्ष 2012 में इन्हें अंक 04 की दशा आरम्भ होगी | यह अंक पितृ दोष का है | इस अंक से पीड़ित लोगों को जहाँ एक ओर अपने पितृ पुरुषों(god fathers) से समस्या रहती है,वहीँ दूसरी ओर उन से भी समस्या रहती है कि जिन के पितृ पुरुष(god father) ये स्वयं होते हैं | ठाकरे का सम्पूर्ण जीवन इस दोष से प्रबल भाव से ग्रसित है | छगन भुजबल, नारायण राणे, संजय निरुपम और राज ठाकरे के मामले इसी कारण हुए | अब स्मिता ठाकरे का ताज़ा एपिसोड भी इसी पितृ दोष प्रधान अंक 04 की ही कृपा है | फ्रेंचकट दाढ़ी रख कर इन्होंने कुछ उपचार अवश्य किया, मगर यह निदान नहीं है | पितृ दोष प्रधान अंक 04 की यह दशा चलेगी वर्ष 2015 तक | यह समयावधि ठाकरे के जीवन के लिए निर्णायक सिद्ध हो सकती है |