शनिवार, 28 नवंबर 2009

महाराष्ट्र,हरियाणा और अरुणाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव अक्टूबर 2009:हमारी भविष्यवाणी सर्वाधिक सही रही थी

जय श्री राम ........... | विगत माह भारतीय लोकतंत्र के महापर्व का एक और दिक् चुनावी आलोक से प्रकाशित हुआ | इस के तीन राज्यों---महाराष्ट्र,हरियाणा और  अरुणाचल प्रदेश में चुनाव संपन्न हुए | यहाँ चुनाव 13 तारीख़ को हुए तथा मतगणना 22 को हुई | मगर हम ने इन चुनावों की भविष्यवाणी 09-09-2009 को ही कर दी थी, जब कि  तब तक प्रमुख दलों ने अपने प्रत्याशी भी घोषित नहीं किये थे | हमारी यह भविष्यवाणी प्रमुख साप्ताहिक पत्रिका इण्डिया न्यूज़ ने अपने 16 अक्टूबर,2009 के अंक में प्रकाशित की थी | साथ ही  इस भविष्यवाणी को प्रमुख ज्योतिषीय पत्रिका फ़्यूचर समाचार ने अपने नवम्बर,2009 के अंक में स्थान दिया | यहाँ यह विशेष ध्यान दिये जाने की बात है कि हम ने सीटों की संख्या को ले कर भी भविष्यवाणी की थी | ऐसा करने वाले हम एक बार फिर इकलौते ज्योतिषी थे | हरियाणा में कांग्रेस और इण्डियन नेशनल लोकदल की सीटों की संख्या के अलावा हमारी इस भविष्यवाणी का हर पहलू सही साबित हुआ |                                                                                                               महाराष्ट्र                                                                                                            हम ने भाजपा के लिए कहा था कि इसे नुकसान उठाना पड़ेगा तथा इस की सीटें कम हो सकती  हैं | सत्ता के मामले में पिछड़ सकती है |  ऐसा ही हुआ | 2004 में भाजपा की 53 सीटें थीं,जो कि  इस बार 46 पर आ गयीं |  कांग्रेस के लिए हम ने कहा था कि मतगणना का परिणाम इस का दिल ख़ुश कर सकता है | साथ ही अपने साझीदार के साथ कुछ रस्साकसी देखने को मिल सकती है | ऐसा ही हुआ | पहले तो सीटों के तालमेल में और फिर बाद में सरकार बनाने के मामले में एन सी पी और कांग्रेस में खींचातानी हुई | मुख्यमंत्री के बारे में हमने लिखा था कि यदि 27 अक्टूबर तक फ़ैसला होता है तो अशोक चव्हाण दौड़ में आगे रह सकते हैं | क्या हुआ,वह आप सभी जानते हैं | शिवसेना के लिए हम ने कहा था कि इसे न सिर्फ़ सत्ता से वंचित रहना पड़ेगा,बल्कि इस के 'पितृपुरुष' बाल ठाकरे को कई समस्याएँ भी झेलनी पड़ेंगी | कांग्रेस सत्ता में तथा शिवसेना सत्ता से बाहर होगी |                                                                     अरुणाचल प्रदेश                                                                                      भाजपा के लिए हम ने कहा था कि इस की सीटें पिछली बार से कम हो सकती हैं | यही हुआ | 09 सीटों वाली भाजपा 03 पर आ गयी | एन सी पी के लिए हमारा कहना था कि सीटों के मामले में बढ़ोतरी हो सकती है | ऐसा ही हुआ | पिछली बार 02 सीटों पर अटकी एन सी पी ने इस बार अपनी सीटें बढ़ा लीं | मुख्यमंत्री के बारे में हम ने कहा था कि निवर्तमान मुख्यमंत्री दोरजी खांडू के ही फिर से मुख्यमंत्री बनने के योग हैं | ऐसा ही हुआ |                                                                  हरियाणा                                                                                                             ओमप्रकाश चौटाला के बारे में हम ने लिखा था कि कांग्रेस सत्ता में तथा ये सत्ता से बाहर होंगे | भाजपा को नुकसान होने की बात कही थी | एन सी पी के लिए कहा था कि यह सीटों या वोट प्रतिशत के मामले में अपनी इज्ज़त बचाने में सफल रह सकती है | मुख्यमंत्री के मामले में हमारा कहना था कि भूपिंदर सिंह हुड्डा पर सोनिया गांधी की विशेष कृपा रहेगी |...हुड्डा एक बार फिर हरियाणा की कमान संभाल ले तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए | आप ने देखा कि ऐसा ही हुआ |      (फिलहाल अनावश्यक दोहराव से बचाने के लिए हम यहाँ इण्डिया न्यूज़ में प्रकाशित भविष्यवाणी ही संलग्न कर रहे हैं,फ़्यूचर समाचार में प्रकाशित भविष्यवाणी अन्य किसी अवसर पर आवश्यक हुई तो देंगे) |