शनिवार, 10 सितंबर 2022

उद्धव ठाकरे सरकार का पतन : हमारी भविष्यवाणी सही ठहरी

जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, हमारी ‘कृपात्रयी’ (प. पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) व हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से हमारी भविष्यवाणियों के सही ठहरने का क्रम अबाध रूप से जारी है। एक तो अपनी व्यस्तताओं व दूसरे, ऐसी भविष्यवाणियों की संख्यात्मक बहुलता के चलते हम आपके सामने इनकी स्मरण-पोस्ट रखने में देर कर जाते हैं। हमारी एक भविष्यवाणी विस्फोटक रूप से सही ठहरी है। यह भविष्यवाणी है महाराष्ट्र कि उद्धव ठाकरे सरकार के पतन के बारे में। 28 नवम्बर, 2019 को उद्धव मुख्यमन्त्री बने और 29 जून, 2022 को उनका त्यागपत्र हो गया। हमने इसकी भविष्यवाणी की हुई थी। हमने YOU TUBE दिनांक 5 दिसम्बर, 2019 (गुरुवार) को ‘उद्धव ठाकरे सरकर का भविष्य’ शीर्षक से दो भागों में वीडियो डाले थे। भाग-1 वाले वीडियो का लिंक है-https://youtu.be/_rjBmRLDNBc  
और भाग-2 वाले वीडियो का लिंक है-https://youtu.be/zenkKD1RtcQ
            शीघ्र ही लिज़ ट्रस के इंग्लैण्ड के प्रधानमंत्री बनने समेत कुछ और सही ठहरी भविष्यवाणियों और गुजरात व हिमाचल प्रदेश के आसन्न विधानसभा चुनाव के बारे में अपनी भविष्यवाणी के साथ फिर उपस्थित होंगे। तब तक के लिए आज्ञा दीजिए। ......... आज के आनन्द की जय ............ जय श्री राम।   

नीतीश कुमार का एनडीए से महागठबन्धन में जाना : हमारी भविष्यवाणी सही ठहरी

            जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, हमारी ‘कृपात्रयी’ (प. पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) व हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से हमारी भविष्यवाणियों के सही ठहरने का क्रम अबाध रूप से जारी है। एक तो अपनी व्यस्तताओं व दूसरे, ऐसी भविष्यवाणियों की संख्यात्मक बहुलता के चलते हम आपके सामने इनकी स्मरण-पोस्ट रखने में देर कर जाते हैं। हमारी एक भविष्यवाणी विस्फोटक रूप से सही ठहरी है। यह भविष्यवाणी है बिहार के मुख्यमन्त्री नीतीश कुमार के बारे में। नीतीश कुमार ने विगत 10 अगस्त को एक बार फिर से मुख्यमन्त्री के रूप में शपथ ग्रहण की। नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जनता दल (यूनाइटेड) ने एनडीए छोड़ कर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के साथ फिर से महागठबन्धन की सरकर बनायी। होने को तो किसी के लिए यह बात घोर आश्चर्यजनक हो सकती है, किन्तु हमारे लिए यह बात रत्ती भर भी आश्चर्यजनक नहीं थी। हमने इसकी भविष्यवाणी की हुई थी। YOU TUBE  पर दिनांक 21 नवम्बर, 2020 (शनिवार) की ‘नीतीश सरकार का भविष्य’ नामक वीडियो पोस्ट में आप हमारी यह भविष्यवाणी बहुत सरलता से देख सकते हैं। हमारी उक्त वीडियो पोस्ट का लिंक है-https://youtu.be/6yye0At4dTg

            उक्त वीडियो पोस्ट में हमने यह भी कहा है कि बिहार में अब आगे क्या होगा? वर्ष 2025 में क्या होगा? नीतीश कुमार का आगे भविष्य क्या है? बिहार में भारतीय जनता पार्टी का भविष्य क्या है? साथ ही इस पोस्ट में हमने तेजस्वी यादव के भविष्य के बारे में भी संकेत किया है। 

            उद्धव ठाकरे सरकार के पतन के बारे में हमारी भविष्यवाणी सही ठहरने की बात लेकर फिर उपस्थित होने अगली पोस्ट में। तब तक के लिए ......... जय श्री राम। 


शुक्रवार, 21 मई 2021

कोरोना-2 से कब मिलेगी मुक्ति??? कब आएगा कोरोना-3???

जय श्री राम .........   आदरणीय मित्रो ............ दुनिया में कोरोना की दूसरी लहर आ चुकी है| इसने जिस तरह की विभीषिका मचायी है, वह समूची मानव-जाति के लिए अत्यन्त है| हमने 28 अप्रेल, 2021 की रात्रि 9:12 से 9:47 बजे के अपने facebook live में इसकी विस्तार से चर्चा की है| हम पहली लहर के बारे में भी पूर्ण तरह सही ठहरे थे| 8 जून, 2020 को अपने facebook live में हमने कहा था कि नवम्बर, 2020 में कोरोना का दूसरा रूप या कोरोना जैसी कोई और महामारी या सकती है| कोरोना की यह दूसरी लहर नवम्बर, 2020 में ही पैदा हुई है| हमारा यह वीडियो फेसबुक और यूटयूब पर उपलब्ध है|  हमने कोरोना-1 के बारे में भविष्यवाणी करते समय यह बात विस्तार से बतायी थी कि कोरोना का संबंध अंक 3, अंक 5 और अंक 9 से है| अंक 3 और अंक 5 मिलकर प्रसार करवाते हैं| अंक 3 वायु का है और अंक 5 प्रसार की बात करता हैवर्ष 2019 में चलित में 21 अक्टूबर से 20 नवंबर तक जब अंक 9 था और 21 नवंबर से 20 दिसंबर 2019 तक अंक 3 थातब यह कोरोना वायरस उत्पन्न हुआ| वहाँ वर्षांक भी 3 था| इसके इस दूसरे रूप में भी अंक 3 व अंक 5 की भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकताएक विशेष ध्यान दिये जाने वाली बात यह है कि वर्ष 2020 में जो कोरोना की लहर आयी, उसमें अधिकतर लोग बुख़ार या खांसी-जुकाम से पीड़ित होकर कोरोना का ग्रास बनते थे, जबकि कोरोना की इस दूसरी लहर में श्वास संबंधी समस्या सबसे बड़ी समस्या हैजिस मरीज को देखो, वही ऑक्सीजन की कमी की समस्या से जूझ रहा हैअधिकतर मरीजों के प्राण भी इसी कारण से जा रहे हैंइसका सबसे बड़ा कारण यह है कि कोरोना की पहली लहर की प्रचंडता का वर्ष था 2020| इस वर्ष का मूलांक बनता था 4, जो कि रक्त का अंक हैकोरोना की कोई भी लहर हो; भले ही वह पहली थी अथवा अभी दूसरी हो अथवा आगे भी कोई जो आएगीइस संदर्भ में अंक 7 अर्थात् केतु की विशिष्ट भूमिका है| अंक 7 वर्ष 2020 के स्वामी अंक 4 के साथ मिलकर रक्त संबंधी समस्या उत्पन्न करता था अंक 4 रक्त का है और अंक 7 पानी काइन दोनों की युति से रक्त पतला होता है| इस कारण अंक 4 के स्वामित्व वाले वर्ष 2020 में कोरोना  रक्त से संबंधित स्वरूप में अधिक भयानक थातब रक्त से संबंधित समस्याओं के रूप में ही बुखार आता था और मरीज कोरोना की जकड़ और पकड़ में आ जाता थावर्ष 2021 का स्वामी अंक 5 हैयह बुध का हैयह अंक श्वसन तंत्र और फेफड़ों का प्रतिनिधि हैअंक 3 के साथ अंक 5 का यह योग श्वसन तंत्र अथवा फेफड़ों से संबंधित समस्या के विस्तार और प्रसार को सूचित करता हैइस कारण वर्ष 2021 में कोरोना वायरस के मरीजों की समस्या श्वसन तंत्र और फेफड़ों से संबंधित हैयहाँ यह बात विशेष ध्यान दिये जाने वाली है कि 21 दिसम्बर, 2020 से 20 जनवरी,  2021 तक चलित में अंक 8 (ओज) था, जबकि 21 जनवरी, 2021 से 20 फरवरी, 2021 तक चलित में अंक 8 (सौम्य) था|  21 फरवरी से चलित में अंक 3 का आगमन होता है|  20 मार्च तक यह चलता है और उसके बाद 1 महीने अर्थात् 20 अप्रैल तक अंक 9 चलता हैपिछले वर्ष भी इन्हीं 2 अंकों ने कोरोना के मामले में क़हर बरपाया था और इस बार भी इन्हीं 2 अंकों ने क़हर बरपाया है|  21 फरवरी के बाद ही कोरोना का तेज़ी से विस्तार शुरू हुआ हैअंक 3 अंक 9 की अवधि समाप्त होने के बाद अर्थात् 20 अप्रैल के बाद चलित में अंक 6 और उसके बाद अंक 5 आता हैअंक 6 21 अप्रैल से 20 मई रहता हैअंक 6 अंक 4 का विरोधी अंक है| अंक 4 की कोरोना के मामले में विशेष भूमिका पहली लहर में  भी थीदूसरी लहर में भी है और तीसरी लहर में भी रहेगीइस कारण 1 अप्रैल से ही वैसे तो कोरोना के केस में भयानक वृद्धि आरंभ हो गयी क्योंकि अप्रैल का अपना अंक 4 है, किंतु इन केस में 21 अप्रैल के बाद एक विशेष दुर्भाग्यपूर्ण बात देखने में आती हैकोरोना के इस चरण के मामले में चाहे इंजेक्शन रेमडीसीवर की कालाबाजारी होचाहे ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारीचाहे ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कालाबाजारी हो अथवा अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड की कालाबाजारी हो; सब के सब मामले 20 अप्रैल के बाद से ही अधिक सामने आ रहे हैंइसका कारण यह है कि अंक 6 अंक 4 का विरोधी अंक हैअंक  6  शुक्र का प्रतिनिधि हैअंक 6 अर्थात् धन  की अंक 4 अर्थात् राहू  के साथ विरोधी युति से धन सम्बन्धी भ्रष्टाचार पनपता है|   21 अप्रैल से चलित में अंक 6 के  आते ही अंक 4 के सहयोग से ऐसे धन सम्बन्धी भ्रष्टाचार के मामले बहुत बुरी तरह उछल-उछल कर सामने आने लगे

         अब बात करते हैं कि कोरोना का यह मामला कहाँ जाकर धीमा पड़ेगा और कहाँ जाकर हमें इससे मुक्ति मिलेगीजैसा कि हमने पहले भी कहा है कि कोरोना के मामले में अंक 7 की भूमिका बहुत विशेष हैअंक 7 केतु अर्थात् पानी का हैकोरोना का  यह जबरदस्त स्वरूप ठंडा पड़ने के लिए अंक 7 का सशक्त होना आवश्यक हैअंक 7 बरसात से ही सशक्त हो सकता हैइस मौसम में अनियमित बरसात की बात और है, किंतु नियमित बरसात तो मानसून में ही आएगी|  21 मई से 20 जून तक अंक 5 है जो कि इस वर्ष का स्वामी भी है और यह अंक ऑक्सीजन संबंधी मामलों से कोरोना वायरस के मरीजों के मरने में बहुत बड़ी भूमिका निभा रहा है| इस कारण यह मानकर चलना चाहिए कि 20 जून तक तो ऐसे मामले में परेशान करेंगे| चूँकि 31 मई तक मासांक भी 5 है| इस कारण मासांक, चलित अंक और वर्षांक, तीनों ही में अंक 5 होने के कारण यह स्थिति लगभग बुरी जैसे ही रहेगी| 1 जून से 20 जून तक मासांक 5 की अपेक्षा 6 हो जाएगा| ऐसे में कुछ राहत की उम्मीद की जा सकती है| यह राहत चिलचिलाती धूप में कुछ छींटों के समान ही होगी|  21 जून से चलित में अंक 2 व 7 आते हैंयह दोनों स्त्री अंक हैयहाँ से अंक 7 अर्थात् बरसात की भूमिका आरंभ हो जाती है|   लगभग इसी समय मानसून मध्य भारत के आसपास पहुँचता हैवैसे मानसून मई महीने के अन्त अथवा जून महीने के आरम्भ में केरल के तटीय क्षेत्रों में आ जाता है, किंतु मानसून को परवान चढ़ने अर्थात् मध्य भारत के आसपास पहुँचते-पहुँचते जून मध्य का समय हो जाता हैयह समय अंक ज्योतिष के अनुसार वही 20 जून के बाद अर्थात् 21 जून के आसपास बैठता है| इसके बाद भारत वर्ष में मानसून प्रबल होता जाता हैचलित में भी अंक 2 व 7 21 जून से आरंभ होते हैं, जो कि 20 जुलाई तक चलते हैं|  21 जुलाई से 20 अगस्त तक चलित में अंक 1 व 4 आ जाते हैं| जुलाई महीने के कारण 21 जुलाई से 31 जुलाई तक अंक 7 रहता है| अतः आकलन यह कहता है कि 21 जून से आगे बढ़ते जाने पर हमारे देश में कोरोना  का ग्राफ बराबर गिरता जाएगा और यहां से हमें से मुक्ति मिलनी आरंभ हो जाएगीजैसे-जैसे मानसून अपना उठाव लेगा व आगे बढ़ेगा, उसी प्रकार से कोरोना का उसी के अनुपात में अंत होता जाएगा और मानसून विदा होते-होते कोरोना से हमारा देश लगभग राहत पा लेगा और जीवन की गाड़ी एक बार फिर से जनवरी-फरवरी   2021 की तरह पटरी पर आ जाएगी हमारी भारतीय भौगोलिक परंपराओं के अनुसार मानसून की जनक वर्षा ऋतु अर्थात चतुर्मास (जिसे चौमासा भी कहते हैं)  देवोत्थान एकादशी तक रहता है| इस बार देवोत्थान एकादशी मध्य नवंबर के आसपास पड़ रही हैइस प्रकार यह कहा जा सकता है कि कोरोना कम-अधिक रूप में इस वर्ष के नवंबर तक  तो रहेगा| 

         अब जहाँ तक इसके तीसरे स्वरूप की बात है, तो उसके मामले में भी अंक 3 व अंक 8 की महत्त्वपूर्ण भूमिका रहेगी| अगले वर्ष 2022 का अंक 6 है| यह भ्रष्ट होता है अंक 8 की संगत में|   21 दिसंबर से 20 फरवरी 2022 तक चलित में अंक 8 रहेगायह वह समय है कि जब कोरोना वायरस का तीसरा रूप या लहर दुनिया के किसी हिस्से में पैदा होगी और आगे से आगे फैलेगीजहाँ तक हमारे देश में कोरोना की तीसरी लहर के प्रकोप की बात है, तो उसके लिए फिर 3 तीन की प्रभावी भूमिका रहेगी अर्थात् वर्ष 2022 में 21 फरवरी से आगे का समय कोरोना की तीसरी लहर के प्रकोप का है| इसे ध्यान में रखते हुए हमें पहले से ही इसके बचाव के लिए समुचित उपाय व प्रबंध कर लेने चाहिए

                अब अनुमति दीजिए| ............ आज के आनन्द की जय ......... जय श्री राम|

 

गुरुवार, 13 मई 2021

असम के मुख्यमन्त्री हेमंता बिस्वासरमा अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएँगे

जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, आपकी सेवा में एक बार पुनः उपस्थिति हैं| अभी हम चर्चा करेंगे अपनी सटीक ठहरी भविष्यवाणी की| हमारी ‘कृपात्रयी’ (प.पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) और हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से असम से संबंधित भविष्यवाणियों के क्रम में आइए अब बात करते हैं इस राज्य के नव पदस्थापित मुख्यमंत्री हेमंत विश्व शर्मा की| भारतीय जनता पार्टी के शासन के पहले कार्यकाल में सर्वानंद सोनोवाल ने मुख्यमंत्री पद का दायित्व निभाया, किंतु पार्टी के दूसरे कार्यकाल में अर्थात वर्ष 2021 के विधानसभा चुनाव में विजय के पश्चात पार्टी ने सोनोवाल की अपेक्षा हेमंता बिस्वासरमा को अपना नेता चुना और उन्हें मुख्यमंत्री बनने का अवसर दिया है| हेमंता बिस्वासरमा ने जिस मुहूर्त में शपथ ग्रहण की है, वह मुहूर्त अच्छा है| हमने वर्ष 2021 के नव वर्ष के भविष्यवाणी के वीडियो के क्रम में दिनांक 08 जनवरी, 2021 को you tube पर डाले भारतीय जनता पार्टी के बारे में वीडियो में भविष्यवाणी की थी---“असम में यदि विधानसभा चुनाव में विजय के पश्चात भारतीय जनता पार्टी सर्बानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री बनाती है तो वे मुख्यमंत्री के रूप में 5 साल पूरे करेंगे, किंतु यदि ऐसा नहीं होता है तो यह विधानसभा कम से कम 2 मुख्यमंत्री देखेगी|” इसका तात्पर्य यह हुआ है कि हेमंता बिस्वासरमा मुख्यमंत्री के रूप में अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएँगे| यद्यपि  बिस्वासरमा ने जिस मुहूर्त में शपथ ग्रहण की है, हमने  इस मुहूर्त को लेकर भी सुझाव दिया था| फर्स्ट इंडिया न्यूज़ चैनल को दिनांक 9 मई, 2021 को दिए गए साक्षात्कार में हमने यह कहा था कि यदि विश्वास शर्मा 11 मई, 2021 (मंगलवार) को दोपहर में 10:30 से 1:30 के बीच मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करते हैं तो उनका कार्यकाल तो हालाँकि पूरा नहीं होना है, किंतु जितना भी कार्यकाल रहेगा; वह यशदायी रहेगा| उतना कार्यकाल भी उन्हें प्रतिष्ठा अवश्य देगा|  हम आज इस पोस्ट में उस चैनल को दिये अपने साक्षात्कार की उस भविष्यवाणी में यह जोड़ रहे हैं कि शुभ मुहूर्त में ली गयी शपथ के कारण से बिस्वासरमा का यह कार्यकाल इनके लिए अवसानकारी नहीं रहेगा| जब भी इनके मुख्यमंत्री पद की बलि चढ़ेगी अर्थात इनका मुख्यमंत्री पद छिनेगा तो यह शुभ मुहूर्त में ली गई शपथ इनका राजयोग बनाए रखेगी| तात्पर्य यह है कि किसी न किसी रूप में बिस्वासरमा का राजयोग बना रहेगा|  तब यह हो सकता है कि इन्हें राज्य से हटा कर  केंद्र में मंत्री पद दे दिया जाए| इसके अलावा यह भी संभव है कि उन्हें संगठन के स्तर पर कोई महत्वपूर्ण पद मिले, किंतु इसमें भी संगठन की अपेक्षा सत्ता में भागीदारी के योग प्रबल है अर्थात मंत्री पद पर विराजमान होने के योग प्रबल हैं| 

मिलते हैं अगली पोस्ट में एक और भविष्यवाणी की चर्चा के साथ| .......... जय श्री राम| 

असम भारतीय जनता पार्टी में उथल-पुथल : कब होगी? क्या होगा तब?

जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, आपकी सेवा में एक बार पुनः उपस्थिति हैं| अभी हम चर्चा करेंगे अपनी सटीक ठहरी भविष्यवाणी की| हमारी ‘कृपात्रयी’ (प.पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) और हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से आपके समक्ष असम के सन्दर्भ में भारतीय जनता पार्टी के बारे में एक ख़ास भविष्यवाणी क्र रहे हैं| भारतीय जनता पार्टी ने असम विधानसभा के हालिया चुनाव में पूर्ण बहुमत वाळी एक तगड़ी विजय प्राप्त की है और यह विजय इस राज्य में पार्टी के आत्मविश्वास को सातवें आसमान की तरफ ले गयी है| दिनांक 9 मई, 2021 रविवार को फर्स्ट इंडिया न्यूज़ चैनल को दिए गए फोनों साक्षात्कार में हमने असम में भारतीय जनता पार्टी को लेकर भविष्यवाणी पर कुछ बातें कहीं| वही बातें यहाँ इस पोस्ट में रख रहे हैं| भारतीय जनता पार्टी और असम के अंकों के साथ वर्तमान विधानसभा के अंकों का तुलनात्मक अध्ययन किया जाए तो यह बात देखने में आती है कि अप्रैल, 2023 से मई, 2024 अर्थात इस अवधि के जो 13 महीने हैं, इनमें असम भाजपा में बहुत बड़ी उठापटक देखने को मिल सकती है| यहाँ तक कि पार्टी की सरकार भी गिर सकती है या फिर पार्टी टूट भी सकती है तात्पर्य यह कि उक्त अवधि में पार्टी का कोई बड़ा नेता या कुछ उल्लेखनीय महत्वपूर्ण नेता पार्टी छोड़ सकते हैं और पार्टी तोड़ सकते हैं भारतीय जनता पार्टी के लिए उक्त समय यानी अप्रैल, 2023 से मई, 2024 का समय संकट का काल होगा और इसे लेकर प्रादेशिक नेतृत्व और राष्ट्रीय नेतृत्व को संभल कर काम करना चाहिए| 

                असम से संबंधित एक और विशिष्ट भविष्यवाणी हम लेकर आ रहे हैं आपके लिए हमारी अगली पोस्ट में, प्रतीक्षा कीजिए| ......... जय श्री राम

सर्वानंद सोनोवाल का राजयोग : अब केंद्र में

 जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, आपकी सेवा में एक बार पुनः उपस्थिति हैं| अभी हम चर्चा करेंगे अपनी सटीक ठहरी भविष्यवाणी की| हमारी ‘कृपात्रयी’ (प.पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) और हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से हम अपनी अगली भविष्यवाणी के साथ उपस्थित हैं|

 असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के साथ बड़ी विचित्रता हुई| भारतीय जनता पार्टी ने हालांकि असम में विधानसभा चुनाव में फिर से विजय प्राप्त की, किंतु सर्वानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया| उनकी अपेक्षा हेमंता बिस्वासरमा को मुख्यमंत्री के रूप में पसंद किया गया और बिस्वासरमा असम के मुख्यमंत्री बने| यहाँ सभी के मन में एक प्रश्न सामान्य रूप से उठता है कि क्या सर्वानंद सोनोवाल का राजनीतिक भविष्य समाप्त हो गया है? अब उनका क्या होगा? हमने इस मामले में गणना की, जिसे अब आपके सामने इस पोस्ट में बात रखने जा रहे हैं| यह बात हमने फर्स्ट इंडिया न्यूज़ चैनल को दिनांक 9 मई, 2021 (रविवार) को दियेये फ़ोनो-साक्षात्कार में कही है| सर्वानंद सोनोवाल के अंक इस चलित में केंद्रीकृत है| केंद्रीकृत अंको का तात्पर्य यह है कि इनकी दिशा राज्य से केंद्र की ओर| वर्ष 2016 में सर्वानंद सोनोवाल के अंक विकेंद्रीकृत थे अर्थात उनकी दिशा केंद्र से राज्य की ओर थी| उन विकेंद्रीकृत अंकों के प्रभाव के कारण सर्वानंद सोनोवाल तब केंद्र से राज्य में गये| अब वर्तमान में केंद्रीकृत अंकों के प्रभाव के कारण सर्बानंद सोनोवाल राज्य से केंद्र में आएँगे|  इसका तात्पर्य यह हुआ कि सोनोवाल केंद्र सरकार का हिस्सा बनेंगे| यदि केंद्र सरकार के गठन के अर्थात नरेंद्र मोदी की इस सरकार के शपथ लेने के अंकों और सर्बानंद सोनोवाल के अंकों को हम समीचीन रूप में तुलनाकृत स्वरूप में देखें तो यह गणना सामने आती है कि 20 अगस्त, 2021 तक सर्वानंद सोनोवाल के केंद्र सरकार में मंत्री पद प्राप्त करने के प्रबल योग हैं|  विस्तारित रूप में ये योग हालांकि 20 नवंबर तक चलेंगे, पर फिर भी 20 अगस्त 2021 तक सोनोवाल केंद्र सरकार में मंत्री पद पर विराजमान हो जाएँ तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए | मिलते हैं अगली पोस्ट में एक और भविष्यवाणी की चर्चा के साथ| ......... जय श्री राम| 

असम में मुख्यमन्त्री-पद को लेकर विचित्रता : हमारी भविष्यवाणी सही साबित

जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, आपकी सेवा में एक बार पुनः उपस्थिति हैं| अभी हम चर्चा करेंगे अपनी सटीक ठहरी भविष्यवाणी की| हमारी ‘कृपात्रयी’ (प.पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) और हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से हमारी भविष्यवाणियों के सटीक ठहरने का क्रम जारी है| फर्स्ट इंडिया न्यूज़ चैनल को दिनांक 2 मई 2021 रविवार यानी कि मतगणना के परिणाम वाले दिन दिए गए साक्षात्कार में हमने असम को लेकर हमने यह भविष्यवाणी की थी---“यहाँ मुख्यमंत्री पद को लेकर विचित्र रह सकती है| यहाँ के निवर्तमान मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल का मामला खतरे में है| इसका तात्पर्य था कि वे या तो विधायक का चुनाव हार सकते हैं और या फिर मुख्यमंत्री पद की दौड़ का चुनाव हार सकते हैं, और हुआ यही कि सर्वानंद सोनोवाल मुख्यमंत्री पद प्राप्त करने की दौड़ में हेमंता बिस्वासरमा से हार गये| हेमंता बिस्वासरमा भाजपा विधायक दल के नेता चुने गये यानि मुख्यमंत्री के लिए चुने गये और उन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली| सर्वानंद सोनोवाल के लिए हमारी अगली महत्वपूर्ण भविष्यवाणी आपको एक अन्य पोस्ट में पढ़ने को मिलेगीमिलते हैं अगली पोस्ट में एक और भविष्यवाणी की चर्चा के साथ| .......... जय श्री राम| 

असम विधानसभा चुनाव-2021 : हमारी भविष्यवाणी सही साबित

 जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, आपकी सेवा में एक बार पुनः उपस्थिति हैं| अभी हम चर्चा करेंगे अपनी सटीक ठहरी भविष्यवाणी की| हमारी ‘कृपात्रयी’ (प.पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) और हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से हमारी भविष्यवाणियों के सटीक ठहरने का क्रम जारी है| असम विधानसभा चुनाव को लेकर हमारी भविष्यवाणी नितांत सटीक ठहरी| हमने अपने ब्लॉगों पर 5 अप्रैल, 2021 (सोमवार) की पोस्ट की भविष्यवाणी में इस राज्य के बारे में कहा था कि यहाँ भारतीय जनता पार्टी नीत गठबंधन अर्थात भारतीय जनता पार्टी, यूपीपीएल और असम गण परिषद, इन तीनों का गठबंधन पूर्ण बहुमत के साथ  पुनः सत्तासीन होने जा रहा है|  कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन को विपक्ष में रहकर ही संतोष करना पड़ेगा| हुआ भी यही कि भारतीय जनता पार्टी नीत गठबंधन को पूर्ण बहुमत मिला और उन्होंने सरकार बनायी, जबकि कांग्रेस के गठबंधन को दूसरे स्थान पर रहकर विपक्षी गठबंधन बनने मात्र पर संतोष करना पड़ा| मिलते हैं अगली पोस्ट में एक और भविष्यवाणी के सटीक ठहरने की चर्चा के साथ| .......... जय श्री राम| 

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव-2021 : हमारी भविष्यवाणी सही साबित

 जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, आपकी सेवा में एक बार पुनः उपस्थिति हैं| अभी हम चर्चा करेंगे अपनी सटीक ठहरी भविष्यवाणी की| हमारीकृपात्रयी’ (.पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) और हमारी कुलदेवी माँ हिंगलाज भवानी की कृपा से हमारी भविष्यवाणियों के सटीक ठहरने का क्रम जारी है| हमने अपने ब्लॉगों पर 5 अप्रैल, 2021 (सोमवार) की पोस्ट की भविष्यवाणी यह कहा था कि हमने इस राज्य के लिए कहा था कि अन्नाद्रमुक, भारतीय जनता पार्टी उसके सहयोगी दल के गठबंधन को सत्ता  नहीं मिलेगी| अन्नाद्रमुक के हाथ से सत्ता छिन जाएगी और 10 वर्षों के लगातार वनवास के बाद द्रमुक उसके सहयोगी दलों के गठबंधन को सत्ता प्राप्ति होगी तथा एम. के. स्टालिन इस गठबंधन के मुख्यमंत्री के रूप में सत्ता के शीर्ष पर स्थापित होंगे| देखा जा सकता है कि तमिलनाडु में यही हुआ| इस सुदूर दक्षिण के राज्य में विधानसभा चुनाव के बारे में हमारी भविष्यवाणी शत प्रतिशत सही ठहरी| वहाँ द्रमुक गठबंधन पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता पर काबिज हुआ है और अन्नाद्रमुक के गठबंधन को सत्ता से बाहर होना पड़ा है| एम. के. स्टालिन ने द्रमुक गठबंधन के मुखिया के रूप में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है| मिलते हैं अगली पोस्ट में एक और भविष्यवाणी के सटीक ठहरने की चर्चा के साथ| .......... जय श्री राम