बुधवार, 10 दिसंबर 2014

झारखण्ड विधानसभा चुनाव 2014 : क्या रहेगी तस्वीर



जय श्री राम ......... आदरणीय मित्रो, चुनावों के क्रम में अब झारखंड और जम्मू और कश्मीर में चुनाव हो आ रहे हैं| आपका अनुरोध रहा कि हम इन चुनावों की भविष्यवाणी भी करें;| निश्चित रूप से हमें ऐसा तो करना ही है क्योंकि यह हमारा ज्योतिषीय कर्त्तव्य जो ठहरा| आइए, पहले बात करते हैं झारखण्ड की|
         
                झारखण्ड
         निर्माण-दिनांक:-15-11-2000
मूलांक:-6     भाग्यांक:-1     आयु-अंक:-6 (15 वाँ वर्ष)    नामांक:-8     चलित दशा:-अंक 8 (वर्ष 2014 तक)
         मतगणना-दिनांक:-23-12-2014
मूलांक:-5    भाग्यांक:-6       दिन-अंक:-9 (मंगलवार)     चलित अंक:-8
चुनावी वर्षांक:-7 (2014)      विधानसभा-अंक:-3 (तीसरी विधानसभा)
          झारखण्ड का मूलांक 6 व भाग्यांक 1 परस्पर अर्द्ध प्रतिकूल है| अंक 6 तो अंक 1 का प्रतिकूल है; किन्तु अंक 1 अंक 6 का प्रतिकूल नहीं है, अपितु समभाव है| यह युति इस राज्य की राजनीति में महामारी की तरह व्याप्त भ्रष्टाचार की प्रमुख कारक है| यह सत्ता/सरकार की अर्द्ध शुक्रभंग युति है| इसके कारण यहाँ सरकार शांतिपूर्वक, स्थिर, निश्चिन्त व निश्चित नहीं रह पाती है| इसके निर्माण का चलित अंक 9 है| मंगल का यह अंक पूर्व वर्णित युति के साथ इस राज्य के भाग्य में राजनीतिक अस्थिरता व उठापटक दृढ़ कर देता है| यह युति इस राज्य में खनन या भूमि से सम्बन्धित भ्रष्टाचार की प्रबलता बताती है| राज्य के नामांक 8 की इसके साथ युति लोकतान्त्रिक अस्थिरता बताती है| यदि इस राज्य की अंग्रेजी वर्तनी JHARKHAND से बदल कर JHARAKHAND कर दी जाए तो इस राज्य में लोकतांत्रिक स्थिरता लायी जा सकती है| इसका आयु-अंक 6 इसकी शुक्रभंग युति को प्रबल करती है| इस राज्य को अभी अंक 8 की दशा चल रही है, जो कि इसी महीने के अंत तक चलेगी| इस दशा की हर चौथाई (दो वर्ष की अवधि) ने इस प्रदेश को नयी सरकार दी है| इस सन्दर्भ में आप समय-समय पर की गयी हमारी भविष्यवाणियाँ पढने का कष्ट कीजिए| वर्ष 2009 के चुनावों से लेकर शिबू सोरेन, अर्जुन मुंडा सरकार के बनने व उनके पतन, और यहाँ तक कि राष्ट्रपति शासन की हमारी भविष्यवाणी सही साबित हुई| यहाँ यह विशेष उल्लेखनीय है कि वर्ष 2005 के चुनावों के बारे में भी हमारी भविष्यवाणी सही साबित हुई थी| अब उतरती यह अंक 8 की दशा इस राज्य को एक बार फिर नयी सरकार व नया मुख्यमंत्री देने जा रही है| चुनावी वर्षांक 7 स्त्री अंक है| इसकी प्रधानता झारखण्ड में इस बार भी गठबंधन की सरकार बनवाने जा रहा है| किसी एक दल की सरकार बन पाती नहीं दिख रही है| इस स्त्री अंक के कारण चुनाव बाद फिर नया गठबंधन दिखायी दे सकता है| यदि भाजपा व झारखण्ड विकास मोर्चा (प्रजातान्त्रिक) साथ आ जाएँ तो अचम्भा नहीं होना चाहिए| साथ ही यदि झारखंड मुक्ति मोर्चा फिर से यू पी ए के साथ आ जाए तो भी अचम्भा नहीं है| अतः यह तो तय है कि इस बार झारखंड मुक्ति मोर्चा व हेमंत सोरेन की सरकार नहीं बनने जा रही है|  
         आइए, अब बात करते हैं हमारी गणना के विभिन्न चक्रों की|
                प्रथम चक्र  
        भाजपा
  मूलांक:-3+       भाग्यांक:-0       आयु-अंक:-4+       नामांक:-3+
     कुल:-10+/4=2.5+
       अमित शाह    
  मूलांक:-2-       भाग्यांक:-6+      आयु-अंक:-3+       नामांक:-3+
     कुल:-10+/4=2.5+
        रवीन्द्र कुमार राय
  मूलांक:-3+       भाग्यांक:-9+      आयु-अंक:-9+       नामांक:-+
     कुल:-22+/4=5.5+
  भाजपा+अमित शाह+रवीन्द्र कुमार राय=(2.5+)+(2.5+)+(5.5+)=10.5+/3=3.5+

       आजसू
  मूलांक:-2-       भाग्यांक:-6+      आयु-अंक:-3+       नामांक:- -
     कुल:-6+/4=1.5+
       सुदेश महतो
  मूलांक:-9+       भाग्यांक:-9+      आयु-अंक:-+       नामांक:-4+
      कुल:-23+/4=5.75+
  आजसू+सुदेश महतो=(1.5+)+(5.75+)=7.25+/2=3.62+
    
       कांग्रेस
  मूलांक:-3+       भाग्यांक:-0       आयु-अंक:-0        नामांक:-9+
     कुल:-12+/4=3+
       सोनिया गांधी
  मूलांक:- -       भाग्यांक:-+      आयु-अंक:-3+       नामांक:- -
      कुल:-2+/4=.5+
       सुखदेव भगत
  आयु-अंक:-0        नामांक:-9+
      कुल:-9+/2=4.5+
    कांग्रेस+सोनिया गांधी+सुखदेव भगत=8+/3=2.66+

       जनता दल (यूनाइटेड)
  मूलांक:-9+       भाग्यांक:- -      आयु-अंक:-9+       नामांक:-=
      कुल:-17+/4=4.25+
       शरद यादव
  मूलांक:-=       भाग्यांक:-3+      आयु-अंक:-+       नामांक:-3+
      कुल:-7+/4=1.75+
        जलेश्वर महतो
  आयु-अंक:-2-       नामांक:-2-
      कुल:-4-/2=2-
     जद (यू)+शरद यादव+जलेश्वर महतो=4+/3=1.33+

        राष्ट्रीय जनता दल
  मूलांक:-+       भाग्यांक:-3+      आयु-अंक:- -       नामांक:-+
      कुल:-4+/4=+
        लालू प्रसाद यादव
  मूलांक:-3+       भाग्यांक:-9+      आयु-अंक:-2-        नामांक:- -
      कुल:-9+/4=2.25+
        गिरिनाथ सिंह
  आयु-अंक:-+       नामांक:-2-
      कुल:- -/2=.5-
    राजद+लालू प्रसाद यादव+गिरिनाथ सिंह=2.75+/3=.91+

       झारखण्ड विकास मोर्चा (प्रजातान्त्रिक)
   मूलांक:-3+       भाग्यांक:-+      आयु-अंक:- -       नामांक:-9+
      कुल:-12+/4=3+
        बाबूलाल मरांडी
  मूलांक:-3+       भाग्यांक:-0       आयु-अंक:-+       नामांक:- -
      कुल:-3+/4=.75+
   झाविमो (प्र)+बाबूलाल मरांडी=3.75/2=1.87+

       झारखण्ड मुक्ति मोर्चा
   आयु-अंक:- -       नामांक:-3+
      कुल:-2+/2=+
       शिबू सोरेन
  मूलांक:-3+       भाग्यांक:-9+      आयु-अंक:-4+       नामांक:-9+
      कुल:-25+/4=6.25+
   झामुमो+शिबू सोरेन=7.25+/2=3.62+
              द्वितीय चक्र
  भाजपा+आजसू=7.12+
  कांग्रेस+जद(यू)+राजद=4.9+
  झामुमो=3.62+
  झाविमो (प्र)=1.87+
      कुल=17.51
              तृतीय चक्र
         कुल सीटें=81
  भाजपा+आजसू=7.12+/17.51=40.66#81=32.93=33 सीटें/कम-ज़्यादा 6;   
  कांग्रेस+जद(यू)+राजद=4.9+/17.51=27.28#81=22.09=22 सीटें/कम-ज़्यादा 4;   
  झामुमो=3.62+/17.51=20.67#81=16.74=17 सीटें/कम-ज़्यादा 3;   
  झाविमो (प्र)=1.87+/17.51=10.67#81=08.64=09 सीटें/कम-ज़्यादा 2;  

           यहाँ विशेष ध्यान दिए जाने योग्य बात यह है कि कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सुखदेव भगत, जद (यू) के प्रदेशाध्यक्ष जलेश्वर महतो और राजद के प्रदेशाध्यक्ष गिरिनाथ सिंह का पूर्ण जन्म-विवरण उपलब्ध नहीं है| अतः यू पी ए की सीटों के मामले में कुछ और अंतर आ सकता है| इसी प्रकार झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के बारे में कहा जाएगा| इसका सिर्फ़ नामांक व आयु-अंक काम लिया गया है| झाविमो के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी का मामला भी अलग है| इनकी कई जन्मदिनांक उपलब्ध हैं| यह कह पाना कठिन है कि कौनसी सही है? इस कारण इनके यहाँ भी सीटों के मामले में कुछ छूट लेनी पड़ेगी; फिर भी यह छूट इतनी भी नहीं होगी कि सारे समीकरण बदल जाएँ|
           इस विश्लेषण से यह स्पष्ट है कि भाजपा व आजसू का गठबंधन अकेले अपनी सरकार बनाता नहीं दिख रहा है| बहुमत के जादुई आंकड़े 42 को पाने के लिए इस गठबंधन को झाविमो (प्र) का सहयोग लेना पड़ सकता है|
           हमारी ये सारी गणनाएँ इस पर आधारित हैं कि हमने भाजपा, आजसू, कांग्रेस, जद (यू), राजद, झाविमो (प्र) व झामुमो को ही मैदान में माना है| इनके अतिरिक्त अन्य दलों या निर्दलियों को हमने अपनी गणना के दायरे से बाहर माना है| स्पष्ट है कि उनकी उपस्थिति से सीटों के मामले में कुछ तो अंतर आ ही जाएगा|
           अगली पोस्ट में मिलेंगे जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव की बात लेकर| ......... आज के आनंद की जय| ........... जय श्री राम|