शुक्रवार, 14 सितंबर 2012

'कोयला विवाद' में मनमोहन सिंह : हमारी भविष्यवाणी सही साबित


जय श्री राम ............| आदरणीय मित्रो, अब बात करते हैं हमारी सही साबित एक और भविष्यवाणी की| हमारी 'कृपात्रयी' (प.पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) की कृपा से हमारी भविष्यवाणियों के सही होने का क्रम जारी है| वैसे तो यू पी ए की इस सरकार के कार्यकाल में घोटालों को झड़ी लगी हुई है, मगर अब तक यह सरकार यह कह कर अपना बचाव कर रही थी कि इसके मुखिया यानि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह इमानदार हैं| उनके दामन पर किसी घोटाले का दाग़ नहीं है| देश का आम आदमी भी यही माने हुए था, मगर पिछले कुछ दिनों से देश में कोयला ब्लाक आवंटन में घोटाले के उठे ज़बरदस्त बवंडर ने यह भ्रम भी तोड़ दिया| इस बार सीधे-सीधे मनमोहन सिंह का खुद का दामन दाग़दार हो गया| यह आयु वर्ष मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्री-काल का संभवतः सबसे बुरा साल साबित हो रहा है| अब तक के सबसे बड़े घोटाले की कालिख मनमोहन सिंह के चेहरे पर लग चुकी है| हमने इनके इस तरह फंसने और प्रतिष्ठा-हानि की बात कह दी थी| 'दिशा' चैनल अपने साप्ताहिक लाइव कार्यक्रम 'अंक प्रभा' के 24 सितम्बर, 2011 के एपिसोड में 'हफ़्ते की हस्ती ' और अपने ब्लॉगों पर दिनांक 26 सितम्बर, 2011 को  'आज का अवतार' (वर्तमान में 'आज की हस्ती') के अंतर्गत साफ़-साफ़ शब्दों में कहा था---"प्रधानमंत्री-काल का सबसे बुरा साल है| प्रबल अपयश योग हैं| नाम खराब होगा| " आज अभी तो मनमोहन सिंह के इस आयु वर्ष के ११ दिन शेष हैं| इस बीच इनके साथ और भी बुरा हो सकता है| हमारी उक्त भविष्यवाणी का शेष भाग (4-6 मंत्रियों को हटा/उनका दायित्व बदल सकते हैं) भी सत्य होगा और बहुत ही जल्दी यानि कुछ ही दिनों में सत्य होगा|
                    मिलते हैं अगली पोस्ट के साथ| ............. जय श्री राम|