रविवार, 4 मार्च 2012

'अंक प्रभा' : मार्च, 2012 : पृष्ठ-5

जय श्री राम ............| आदरणीय मित्रो, यह है 'अंक प्रभा' के मार्च, 2012 अंक का पृष्ठ-5| यहाँ है 'ज्योतिष विभूति' के अंतर्गत प्रख्यात ज्योतिषी श्री हरि नारायण व्यास 'मन्नासा' का संक्षिप्त परिचय और 'अतिथि की कलम से' के अंतर्गत इन्हीं का आलेख 'कैसा मिलेगा जीवनसाथी'| साथ ही इस पृष्ठ पर है 'पाठक-पीठ' के अंतर्गत आपके पत्र, एसएमएस और मेल से प्राप्त आपके विचार|

मिलते हैं अगली पोस्ट के साथ|  ............ जय श्री राम|