रविवार, 16 मई 2010

भैरोंसिंह शेखावत का देहावसान:हमारी भविष्यवाणी सही साबित

जय श्री राम ............ | आदरणीय मित्रो,आप से कल रू-ब-रू होना था,मगर किसी अपरिहार्य कारण से न हो सके | आज हो रहे हैं,मगर आज अब वह चर्चा नहीं कर पाएँगे,जो कि करने को सोच रखी थी | अब हम यहाँ एक दूसरी बात करेंगे | जैसा कि आप को भली भाँति विदित हो ही चुका है कि हमारे पूर्व उपराष्ट्रपति 'बाबोसा' भैरोंसिंह शेखावत अब हमारे बीच सशरीर नहीं रहे | कल यानि 15 मई को प्रातः 11 बज कर 10 मिनट पर उन का शरीर शांत हो गया | एक बहुत ही साधारण परिवार में जन्मे शेखावत अपनी लगन,निष्ठां,ईमानदारी,जनसेवा-भावना,नैतिक मूल्यों के प्रति समर्पण,लोकतंत्र में अटूट आस्था आदि अनेक विशेषताओं के कारण जन-जन के प्रिय थे | उन जैसे राजनेता बहुत मुश्किल से मिलते हैं | वे जब भी जिस पद पर आसीन हुए तो उस पद की प्रतिष्ठा बढ़ा दी | राजनीति में उन्हें 'अजातशत्रु' (जिस का कोई शत्रु न हो) कहा जाता था | ऐसे व्यक्तिव के जाने का हमें भी बहुत दु:ख है | 
   भैरोंसिंह जी ने राष्ट्र-सेवा के पथ पर ही एक क़दम और बढ़ाने के लिए राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ना चाहा| लड़ा भी,मगर हार गये | वर्ष 2007 के मध्य हुए इस चुनाव से सम्बन्धित हमारा एक भविष्यवाणीपरक  आलेख दैनिक युगपक्ष (बीकानेर) के 20 जून,2007 के अंक में प्रकाशित हुआ था (यहाँ उस आलेख की प्रति संलग्न है) | हम ने उस आलेख में स्पष्ट कहा था---".........यह श्री शेखावत की अपेक्षा प्रतिभा जी के अधिक अनुकूल है | मतदान के दिन के अंक मूलांक-1,भाग्यांक-8 तथा मतगणना के दिन के अंक मूलांक-3,भाग्यांक-1 भी प्रतिभा पाटिल के अधिक अनुकूल हैं | अतः शेखावत का जीतना संभव नहीं है |........." 
    मित्रो,यह तो बात थी शेखावत जी के राष्ट्रपति-चुनाव हारने की हमारी भविष्यवाणी की,मगर यह तो बात में से निकली बात है | असल में तो हम आज यहाँ दूसरी बात करना चाहते हैं | यह भी हमारी भविष्यवाणी की है और उक्त आलेख की ही है| इसी आलेख में हम ने आगे भैरोंसिंह जी की आयु के बारे में भी लिखा है | हालांकि किसी की आयु के बारे में कह पाना कोई सरल बात नहीं होती है,मगर यदि प्रभु-कृपा व गणना में निष्ठता रहे तो यह भी संभव है | हम ने अपने इस आलेख में कहा था--- ".........शेखावत का संयुक्तांक-6 है | इस चुनाव के बाद शेखावत का स्वास्थ्य उन्हें परेशान करना शुरू कर देगा | वर्ष 2010 तक का समय उनके स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से निर्णायक रहेगा |........." आप स्वयं देख ही रहे हैं कि वर्ष 2010 आख़िरकार ने उन के स्वास्थ्य (जीवन) से सम्बन्धित अपना निर्णय सुना ही दिया | भैरोंसिंह जी का जाना निश्चित रूप से अत्यंत अपूरणीय क्षति है,किन्तु उन की आयु के मामले में हमारी भविष्यवाणी बिलकुल सही साबित हुई |
    मित्रो,आइए हम सब परम पिता परमात्मा से प्रार्थना करें कि वह भैरोंसिंह जी आत्मा को असीम शांति व अपना अद्भुत आशीर्वाद प्रदान करे | आज बस इतना ही | अब आज्ञा दीजिए | ......... आज के आनंद की जय | ............ जय श्री राम |