सोमवार, 5 अप्रैल 2021

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव-2021 : ममता बनर्जी की दोनों जन्मदिनांक के अनुसार भविष्यवाणी

 

              जय श्री राम ............ आदरणीय मित्रो, हम हमारी विधि में चुनाव लड़ रही पार्टियों की स्थापना के अंक व नामांक; राष्ट्रीय पार्टियों के राष्ट्रीय अध्यक्ष व प्रदेश अध्यक्ष के जन्मांक व नामांक; प्रादेशिक पार्टियों के अध्यक्ष के जन्मांक व नामांक लेते हैं| इन अंकों की गणना सन्दर्भित राज्य के निर्माण के अंक व नामांक और मतगणना के अंकों के साथ करते हैं| जिन व्यक्तियों के जन्मांक उपलब्ध नहीं होते हैं, उनका नामांक काम लेते हैं| इन उपलब्ध अंकों के आधार पर ही सीटों की संख्या का आकलन किया जाता है| इस में फ़तवेबाज़ी नहीं चलती है कि कुछ भी बोल दो कि उसे उतनी सीटें मिलेंगी| यदि इनमें से किसी के भी अंक परिवर्तित होते हैं तो समस्त गणना नये सिरे से की जाती है, क्योंकि उस स्थिति में गणना का आधार बदल जाता है|

            पश्चिम बंगाल की सीटों की संख्या की गणना के मामले में एक नवीन तथ्य चार दिन पहले सामने आया है कि ममता बनर्जी की वास्तविक जन्मदिनांक बहुप्रचलित 05-01-1955 न हो कर कुछ और है| अब यह कुछ और क्या है, इस बारे में ममता बनर्जी का स्वयं का एक साक्षात्कार पढ़ने में आया| उन्होंने उक्त साक्षात्कार में कहा है कि उनकी माताजी के अनुसार उनका (ममता बनर्जी का) जन्मदिन दुर्गा अष्टमी को है और उक्त दुर्गा अष्टमी को 05 अक्टूबर था| पञ्चांग के अनुसार यह दिन शारदीय नवरात्र में आता है| इसी साक्षात्कार में ममता जी कहती हैं कि परीक्षा देने के चक्कर में योग्य न हों, इस फेर में उनके पिताजी ने उनकी आयु पाँच वर्ष अधिक लिखवायी| इस अनुसार ममता जी की जन्मदिनांक 05-10-1960 ठहरती हैं, किन्तु अब यहाँ एक बहुत बड़ा पेंच फँस रहा है| वह यह कि 05 अक्टूबर को दुर्गा अष्टमी मात्र 1954 में पड़ती है, ममता जी के बहुप्रचलित जन्म-वर्ष 1955 के आस-पास कई वर्षों तक 05 अक्टूबर को दुर्गा अष्टमी नहीं पड़ती है| इसलिए हमने ममता बनर्जी की माताजी के कथन (दुर्गा अष्टमी को जन्म) को आधार मानकर इनकी जन्मदिनांक 05-10-1954 मानकर सीटों की संख्या वाली समस्त भविष्यवाणी को फिर से बनाया|

         ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-01-1955 (बुधवार) के अनुसार इनके अंक इस प्रकार ठहरते हैं:-

मूलांक:-5       भाग्यांक:-8       आयु-अंक:-4 (67 वाँ वर्ष)       नामांक:-5      दिन-अंक:-5

         ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-10-1954 (मंगलवार) के अनुसार इनके अंक इस प्रकार ठहरते हैं:-

मूलांक:-5       भाग्यांक:-7       आयु-अंक:-4 (67 वाँ वर्ष)       नामांक:-5      दिन-अंक:-9

         यहाँ ममता बनर्जी की नवीन प्राप्त जन्मदिनांक के मूलांक-भाग्यांक 5 व 7 का विरोधी अंक 9 है| यह अंक इनका दिन-अंक भी है क्योंकि इनका जन्म मंगलवार को हुआ| चूँकि यह अंक 9 दो अंकों (5 व 7) का विरोधी है, इसलिए अंक 9 के युग्म-अंकों के पहले दो अंकों का मध्यमान लेंगे| ये अंक हैं-18 व 27|

         इनका मध्यमान बनता है=18+27=45/2=22.5  

अतः 05-01-1955 वाली जन्मदिनांक के अनुसार गणना में प्राप्त सीटों की संख्या में 22.5 अर्थात् 22 सीटों का बदलाव होगा| अब यह बदलाव सीटें बढ़ाने वाला होगा या कम करने वाला, इसके लिए शेष गणनाओं की भूमिका पर ध्यान देना होगा|

         चूँकि ममता जी की दोनों जन्मदिनांक का मूलांक तो समान है, किन्तु मूलांक-भाग्यांक युतियों में भिन्नता ही नहीं, बल्कि विपरीतता भी है| इनकी 05-01-1955 वाली जन्मदिनांक में भाग्यांक 8 मूलांक 05 का विरोधी है; जबकि 05-10-1954 वाली जन्मदिनांक में मूलांक 5 की भाग्यांक 7 के साथ प्रबल मित्र युति है| अतः 05-10-1954 वाली जन्मदिनांक की युतियाँ ममता जी के लिए अनुकूल है| इसलिए अंक 18 व 27 के मध्यमान से प्राप्त पूर्णांक 22 यानी 22 सीटें ममता जी की जन्मदिनांक 05-01-1955 से प्राप्त सीटों की संख्या में जुड़ेंगी|

        ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-01-1955 होने पर तृणमूल(+) को प्राप्त सीटें=121  

ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-10-1954 होने पर इनकी सीटों की संख्या में 22 सीटों की वृद्धि होगी|

अतः अब प्राप्त सीटों की संख्या=121+22=143

इनमें तृणमूल कांग्रेस के सहयोगी दल गोरखा जनमुक्ति मोर्चा को मिलेंगी=1.43=01 सीटें

और तृणमूल कांग्रेस को मिलेंगी=142 सीटें

         अब प्रश्न यह उठता है कि तृणमूल(+) को मिलने वाली ये 22 सीटें भाजपा(+) और संयुक्त मोर्चा में से किसकी कम होंगी? तो इसका सटीक जवाब यह है कि ये 22 सीटें भाजपा(+) की कम नहीं होंगी क्योंकि उसके प्रमुख व गणनीय घटक भाजपा के स्थापना के अंक, राष्ट्रीय अध्यक्ष व प्रदेश अध्यक्ष के अंक सटीक रूप में प्राप्त हैं|

         अतः भाजपा(+) को मिलने वाली सीटों की संख्या=91

इनमें आजसू को मिलेगी=01 सीट

और भाजपा को मिलेंगी=90 सीटें

         संयुक्त मोर्चा के घटकों में सीपीआई के प्रदेश सचिव स्वप्न बनर्जी, ऑल इण्डिया फॉरवर्ड ब्लॉक के सचिव एन. वेलप्पन नायर, आरएसपी के सचिव मनोज भट्टाचार्य व आईएसएफ के अध्यक्ष नौशाद सिद्दीक़ी की जन्मदिनांक उपलब्ध नहीं है, मात्र नामांक ही उपलब्ध हैं| अतः तृणमूल(+) को मिलने वाली 22 सीटें संयुक्त मोर्चा की कम होंगी|      

         ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-01-1955 होने पर संयुक्त मोर्चा को मिलने वाली सीटें=75

ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-10-1954 होने पर संयुक्त मोर्चा की सीटों में 22 सीटों की कमी होगी|

अतः अब संयुक्त मोर्चा को प्राप्त होने वाली सीटों की संख्या=75-22=53 सीटें

         संयुक्त मोर्चा की सीटों का विभाजन इस प्रकार होगा:-

सीपीएम को पहले मिल रही थीं=33 सीटें; संयुक्त मोर्चा को प्राप्त सीटों में इसका प्रतिशत=33/75=.44%

संयुक्त मोर्चा की कम हो रही 22 सीटों में से सीपीएम की सीटें कम होंगी=22x.44=9.68=10          

    अतः अब सीपीएम को मिलेंगी=33-10=23 सीटें

कांग्रेस को पहले मिल रही थीं=23 सीटें; संयुक्त मोर्चा को प्राप्त सीटों में इसका प्रतिशत=23/75=.31%         

संयुक्त मोर्चा की कम हो रही 22 सीटों में से कांग्रेस की सीटें कम होंगी=22x.31=6.82=07

    अतः अब कांग्रेस को मिलेंगी=23-07=16 सीटें 

आईएसएफ को पहले मिल रही थीं=10 सीटें; संयुक्त मोर्चा को प्राप्त सीटों में इसका प्रतिशत=10/75=.13%       

संयुक्त मोर्चा की कम हो रही 22 सीटों में से आईएसएफ की सीटें कम होंगी=22x.13=2.86=03

    अतः अब आईएसएफ को मिलेंगी=10-03=07 सीटें

फारवर्ड ब्लॉक को पहले मिल रही थीं=04 सीटें; संयुक्त मोर्चा को प्राप्त सीटों में इसका प्रतिशत=04/75=.05%        

संयुक्त मोर्चा की कम हो रही 22 सीटों में से फारवर्ड ब्लॉक की सीटें कम होंगी=22x.05=1.1=01

    अतः अब फारवर्ड ब्लॉक मिलेंगी=04-01=03 सीटें

आरएसपी को पहले मिल रही थीं=03 सीटें; संयुक्त मोर्चा को प्राप्त सीटों में इसका प्रतिशत=03/75=.04%       

संयुक्त मोर्चा की कम हो रही 22 सीटों में से आरएसपी की सीटें कम होंगी=22x.04=.88=01 

    अतः अब आरएसपी को मिलेंगी=03-01=02 सीटें

सीपीआई को पहले मिल रही थीं=02 सीटें; संयुक्त मोर्चा को प्राप्त सीटों में इसका प्रतिशत=02/75=.02%               

संयुक्त मोर्चा की कम हो रही 22 सीटों में से सीपीआई की सीटें कम होंगी=22x.02=.44=00 

    अतः अब सीपीआई को मिलेंगी=02-00=02 सीट  

 इसलिए ममता बनर्जी की दोनों जन्मदिनांक के अनुसार किये गये सीटों की संख्या के आकलन का अन्तिम परिणाम इस प्रकार है-

            (अ)जब ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-01-1955 है

 भाजपा(+)-91 सीटें

भाजपा-90 सीटें         आजसू-01 सीट

तृणमूल कांग्रेस(+)-121 सीटें

तृणमूल कांग्रेस-120 सीटें         गोरखा जनमुक्ति मोर्चा-01 सीट  

संयुक्त मोर्चा-75 सीटें

सीपीएम-33 सीटें         कांग्रेस-23 सीटें          आईएसएफ-10 सीटें       

फारवर्ड ब्लॉक-04         आरएसपी-03 सीटें        सीपीआई-02 सीटें              

अन्य-07 सीटें

           (आ)जब ममता बनर्जी की जन्मदिनांक 05-10-1954 है

भाजपा(+)-91 सीटें

भाजपा-90 सीटें         आजसू-01 सीट

तृणमूल कांग्रेस(+)-143 सीटें

तृणमूल कांग्रेस-142 सीटें         गोरखा जनमुक्ति मोर्चा-01 सीट  

 संयुक्त मोर्चा-53 सीटें

सीपीएम-23 सीटें         कांग्रेस-16 सीटें          आईएसएफ-07 सीटें       

फारवर्ड ब्लॉक-03         आरएसपी-02 सीटें        सीपीआई-02 सीटें               

अन्य-07 सीटें

 मित्रो, हमने हमारी 'कृपात्रयी' (प. पू. गुरुदेव देवरहा बाबा, माँ बगलामुखी और घोटेवाले) व कुलदेवी माता हिंगलाज भवानी की कृपा से यह आकलन कर आपकी सेवा में प्रस्तुत किया है| अब वे ही इस आकलन रूपी भविष्यवाणी की लाज रखेंगे| ...... आज के आनन्द की जय ......... जय श्री राम|

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें